प्रोफेसर शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित की बायोग्राफी | Shantisree Dhulipudi Pandit Biography in Hindi

शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित की बायोग्राफी (न्यूज़, आयु, परिवार,अवार्ड्स, शिक्षा, जन्म तिथि, संपर्क नंबर , उपलब्धियाँ, जेएनयू की पहली महिला वाइस चांसलर) Shantisree Dhulipudi Biography in Hindi (News, Age, Hobby, Birthday, Family, Education, Award, Achievements, Date of Birth, Contact Number, Wiki, JNU, VC

आज के इस पोस्ट में हम आपको विश्व की प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी में से एक जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की नई वाइस चांसलर के बारे में बात करेंगे जिनका नाम प्रोफेसर शांतिश्री धुलिपुड़ी (JNU New VC) है और ये जेएनयू की पहली महिला वाइस चांसलर है. चलिए जानते है प्रोफेसर शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित की बायोग्राफी (Shantisree Dhulipudi Pandit Biography in Hindi) के बारे में.

Shantisree-Dhulipudi-Pandit-Biography-in-Hindi

शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित की बायोग्राफी | Shantisree Dhulipudi Pandit Biography

नाम (Name) शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित
जन्म तारीख (Date of birth) 15 जुलाई 1962
जन्म स्थान (Place) सेंट पीटर्सबर्ग , रूस
उम्र (Age) 59 वर्ष (साल 2021 में )
धर्म (Religion) हिंदू धर्म
पेशा  (Profession) प्रोफ़ेसर, JNU VC
प्रसिद्दि (Famous For) जेएनयू की पहली महिला वाइस चांसलर
शिक्षा (Educational Qualification) शांति और संघर्ष अध्ययन में पोस्टडॉक्टरल 
इंटरनेशनल इंटरनेशनल में पीएचडी
राजनीती विज्ञान में पोस्ट ग्रेजुएशन
स्कूल (School) हायर सेकेंडरी, मद्रास  
कॉलेज(College) प्रेसीडेंसी कॉलेज, मद्रास
जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी, दिल्ली
उप्साला यूनिवर्सिटी, स्वीडन    
नागरिकता(Nationality) भारतीय
राशि (Zodiac Sign) कुंभ
भाषा(Languages) हिंदी, इंग्लिश, तेलुगु, तमिल, मराठी, संस्कृत, कन्नड़, मलयालम और कोंकणी      
वर्तमान पता (Address) दिल्ली  
वैवाहिक स्थिति (Marital Status)   वैवाहिक

कौन हैं शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित?( Who is Shantisree Dhulipudi Pandit)

शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित एक प्रोफेसर है जिन्हें जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) कुलपति के रूप में नियुक्त किया है। पंडित जेएनयू के इतिहास में पहली महिला कुलपति (First Women VC Of JNU) बनी है, 7 फरवरी, 2022 को शिक्षा मंत्रालय ने उन्हें जेएनयू के वाइस चांसलर के पद पर नियुक्त किया है। आपकी जानकरी के लिए बता दे पंडित सावित्रीबाई फुले विश्वविद्यालय, पुणे में राजनीति और लोक प्रशासन की प्रोफेसर है। जेएनयू की पहली महिला वाइस चांसलर के रूप में शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित का कार्यकाल 5 साल का होगा.

शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित जन्म, परिवार और शुरुआती जीवन (Shantisree Dhulipudi Pandit Birth, Family and Early Life)

शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित का जन्म पीटर्सबर्ग शहर, रूस में दिनांक 15 जुलाई 1962 को हुआ था. इनके पिता का नाम स्वर्गीय डॉ. धूलिपुडी अंजनयुलु  है जो एक लेखक और पत्रकार के साथ-साथ सेवानिवृत्त सिविल सेवक भी थे, और इनकी माता का नाम स्वर्गीय प्रो. मुलामूदी आदिलक्ष्मी, लेनिनग्राद ओरिएंटल फैकल्टी डिपार्टमेंट [USSR] में तमिल और तेलुगु की प्रोफेसर थीं। प्रोफेसर पंडित के पति का नाम निरंजन बी. पंडित है और पेशे से कंसलटेंट है और इनकी 1 बेटी है. पंडित पैदा तो भले ही रूस के सेंट पीटर्सबर्ग शहर में हुई लेकिन उनकी प्रारंभिक शिक्षा चैन्नई में हुई. प्रोफेसर शांतिश्री को 10 भाषाओ का ज्ञान है जिसमे हिंदी, इंग्लिश, तेलुगु, तमिल, मराठी, संस्कृत, कन्नड़, मलयालम और कोंकणी भाषा.

पिता का नाम (Father) स्वर्गीय डॉ. धूलिपुडी अंजनयुलु 
माता का नाम  (Mother) स्वर्गीय प्रो. मुलामूदी आदिलक्ष्मी
पति का नाम  (Husband) निरंजन बी. पंडित
बेटी का नाम 

शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित की शिक्षा (Shantisree Dhulipudi Pandit Education Qualification)

प्रोफेसर शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित ने 10वी और 12वी कक्षा की पढाई मद्रास, चैन्नई से पूरी की. उसके बाद सोशल वर्क में डिप्लोमा करने के लिए अमेरिका चली गई जहा पर कैलिफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी से डिप्लोमा किया इसके बाद 1983 में प्रेसीडेंसी कॉलेज, मद्रास से इतिहास और सामाजिक मनोविज्ञान में बी.ए. की डिग्री प्राप्त की. इसके साथ ही यूनिवर्सिटी में पहला स्थान हासिल कर गोल्ड मेडलिस्ट बनी. 1985 में राजनीती विज्ञान में एम.ए. की डिग्री प्राप्त की. इसके बाद साल 1986 में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से एम.फिल में इंटरनेशनल रिलेशंस पेपर्स एंड रिसर्टेशन में प्री डॉक्टरल की डिग्री ली. जहा पर उन्होंने टॉप रैंक हासिल की. साल 1990 में JNU से इंटरनेशनल रिलेशन में पीएचडी की उपाधि हासिल की. इसके बाद उन्होंने पोस्ट डॉक्टरल डिप्लोमा शांति और संघर्ष अध्ययन में 1996 में उप्साला यूनिवर्सिटी, स्वीडन से पूरी की.

जेएनयू की पहली महिला कुलपति (First Woman Vice Chancellor of JNU)

शिक्षा मंत्रालय ने 7 फरवरी 2022 को शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित को जेएनयू को नया वाइस चांसलर के रूप में नियुक्त किया . JNU की स्थापना के बाद शांतिश्री को पहली महिला कुलपति बनाया गया है. साल 2016 से प्रोफेसर एम जगदीश कुमार जेएनयू के कुलपति थे जिन्हें अब बड़ी जिम्मेदारी के साथ विश्वविद्यालय अनुदाय आयोग (UGC) का अध्यक्ष बना दिया गया है. प्रोफेसर एम जगदीश का कार्यकाल तो 26 जनवरी 2021 को ही पूर्ण हो गया था लेकिन उन्हें सेवा विस्तार प्रदान किया गया था .

शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित को 6 भाषाओं का ज्ञान

जेएनयू की पहली महिला कुलपति शांति श्री धूलिपुड़ी पंडित को 6 भाषाओं का ज्ञान है. उनको हिंदी, अंग्रेजी, मराठी, तमिल, तेलगु और संस्कृत भाषा आती है. और इसके साथ ही कोकड़ी, मलयालम और कन्नड़ भाषा को समझ लेती है.

शांति श्री धूलिपुड़ी पंडित के अवार्ड और उपलब्धियाँ (Shantisree Dhulipudi Pandit Award and Achievements)

कार्डोसा पुरस्कार (प्रेसीडेंसी कॉलेज, मद्रास) 1980-81
एलफिंस्टन पुरस्कार (प्रेसीडेंसी कॉलेज, मद्रास) 1980-85
स्कॉट एलोक्यूशन प्राइज (प्रेसीडेंसी कॉलेज, मद्रास) 1980-85
राष्ट्रीय हिंदी छात्रवृत्ति 1980-1983
राष्ट्रीय योग्यता छात्रवृत्ति 1983-1985
तमिलनाडु राज्य सरकार छात्रवृत्ति 1985-1986
फैलोशिप, उप्साला विश्वविद्यालय, स्वीडन 1996
फैलोशिप, साल्ज़बर्ग संगोष्ठी, ऑस्ट्रिया 1998
यूथ फोरम फॉर गांधियन स्टडी, चेन्नई में महिला शिक्षक पुरस्कार 2003
वीर सावरकर पुरस्कार, पुणे 2010

शांति श्री धूलिपुड़ी पंडित की किताबें (Shantisree Dhulipudi Pandit Book)

भारत में संसद और विदेश नीति 1990
राष्ट्र-निर्माण की तलाश में जातीयता और राष्ट्रवाद, येरावन: आर्मेनिया यूनिवर्सिटी प्रेस 1996
वैश्वीकरण, सुरक्षा प्रौद्योगिकी और दक्षिण एशिया में संघर्ष, कोलंबो, आरसीएसएस 2000
एशिया-नैतिकता और नीति में पर्यावरण शासन 2003

शांति श्री धूलिपुड़ी पंडित का करियर (Shantisree Dhulipudi Career)

प्रोफेसर शांतिश्री ने अपने टीचिंग करियर की शुरुआत गोवा यूनिवर्सिटी से की जब पर उन्होंने में राजनीति विज्ञान में लेक्चरर के रूप में कार्य करना शुरू किया। साल 1992 में राजनीति और लोक प्रशासन में पुणे यूनिवर्सिटी में सीनियर लेक्चरर बनीं। 7 फरवरी 2022 को प्रोफेसर शांतिश्री जेएनयू की पहली महिला कुलपति के रूप में नियुक्त किया. जेएनयू के वीसी बनने से पहले प्रोफेसर शांतिश्री सावित्रीबाई फुले यूनिवर्सिटी, पुणे में प्रोफेसर थी।

शांति श्री धुलीपुड़ी पंडित कंट्रोवर्सी (Shantisree Dhulipudi Controversies)

शांति श्री धुलीपुड़ी पंडित को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के करीबी माना जाता है क्यों कि 28 जनवरी 2020 को JNU में मुस्लिम स्टूडेंट के खिलाफ ट्वीट करके बड़ा विवाद खड़ा कर दिया। ट्वीट में लिखा गया था JNU में एक छात्र के रूप में अपने दिनों को याद करते हुए, उन्होंने जेएनयू के वाम कार्यकर्ताओं, दाढ़ी वाले पुरुषों और हिजाब पहनने वाली लड़कियों को जिहादी, यानी इस्लामिक आतंकवादी कहकर निशाना बनाया।

निष्कर्ष :- तो यह था JNU की पहली महिला कुलपति प्रोफेसर शांतिश्री धुलिपुड़ी पंडित की बायोग्राफी। उम्मीद है कि आपको प्रोफेसर शांतिश्री धुलिपुड़ी पंडित जीवन परिचय का यह पोस्ट पसंद आया होगा। ऐसे ही जानकारी प्राप्त करने हेतु हमारे वेबसाइट पर हमेशा आते रहें।

FAQ

Q : कौन है जेएनयू की नई कुलपति?
Ans : प्रोफेसर शांतिश्री धुलिपुड़ी

Q : कौन है शांतिश्री धुलिपुड़ी ?
Ans : जेएनयू की नई वाइस चांसलर

Q : जे एन यू की स्थापना कब हुई?
Ans : 22 अप्रैल 1969

Q : JNU की पहली महिला कुलपति का नाम क्या है? 
Ans : Dr Santishree Dhulipudi Pandit

यह भी पढ़े

 

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here