डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय | Dr. Vikas Divyakirti Biography In Hindi

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय, बायोग्राफी, कौन है, आईएएस रैंक, आयु,  जन्मदिन,  जाति, घर, परिवार, बच्चे,बेटा, शिक्षा, शैक्षणिक योग्यता,  रैंक, जन्म तिथि, पोस्ट, सैलरी, नेट वर्थ, दृष्टि आईएएस कोचिंग इंस्टीट्यूट, कोचिंग फीस, व्हाट्सएप नंबर (Dr. Vikas Divyakirti Biography In Hindi, Wikipedia, Biodata,  Birthday, Age, Family, Wife, Child, Son, Rank, Batch, Cast, Education Qualification, Height, Salary, Date Of Birth, Contact Number, IAS Wiki, Net Worth, Annual Income, Email Address, Drishti IAS)

संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सिविल सर्विस परीक्षा में देश में हर साल आईएएस और आईपीएस देने वाले दिल्ली दृष्टि आईएएस कोचिंग इंस्टीट्यूट है. इसके संस्थापक डॉ. विकास दिव्यकीर्ति है. इन्होंने भी सिविल सर्विस परीक्षा की तैयारी की थी और पहली ही प्रयास में इस परीक्षा को पास करने में सफल रहे. हालाँकि इन्हें आईएएस नही मिला. इसके बाद इन्होंने दिल्ली में दृष्टि आईएएस कोचिंग की शुरुआत की. और यहाँ से हर साल कई युवा आईएएस और आईपीएस की दौड़ में पास होते है. तो आज के इस लेख में हम आपको डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय (Dr. Vikas Divyakirti Biography In Hindi) के बारें में विस्तृत जानकारी देने वाले है.

Vikas Divyakirti Biography In Hindi

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय | Dr. Vikas Divyakirti Biography In Hindi

नाम (Name) डॉ. विकास दिव्यकीर्ति (Dr. Vikas Divyakirti)
जन्म तारीख (Date of birth) 26 दिसंबर 1973
जन्म स्थान (Place) हरियाणा
उम्र (Age) 49 साल  (2022)
धर्म (Religion) हिंदू धर्म
समुदाय (Community) जनरल
पेशा  (Profession) दृष्टि आईएएस कोचिंग के मालिक, पूर्व सिविल सर्वेंट
प्रयास (Attempt) 4 बार
सफल 1 बार
ऑल इंडिया रैंक (Rank) 384 (1997)
परीक्षा उत्तीर्ण की आयु 22 साल
रोल नंबर (Roll Number) 097484
वैकल्पिक विषय (Optional Subject) सोशियोलॉजी
शिक्षा माध्यम (Education Medium) हिंदी माध्यम
बैच (Batch) 1997 के बैच
पोस्ट की जगह (Place Of Post) गृह मंत्रालय, दिल्ली
कैडर (Cadre Allocation)
वर्तमान पद (Current Position) इस्तीफा (1999)
पहली सर्विस (First Service) राज भाषा विभाग, दिल्ली
शिक्षा (Educational Qualification) हिस्ट्री(ऑनर्स) में ग्रेजुएशन
एमए (सोशियोलॉजी)
मास कम्युनिकेशन,
एलएलबी, मैनेजमेंट,
हिन्दी साहित्य में एमए,
एम.फिल और पीएचडी (उत्तर आधुनिकतावाद)
स्कूल (School) विद्या भारती स्कूल, भिवानी, हरियाणा
कॉलेज (College) जाकिर हुसैन कॉलेज, दिल्ली
विश्वविद्यालय (University) दिल्ली यूनिवर्सिटी
नागरिकता (Nationality) भारतीय
राशि (Zodiac Sign) वृषभ राशि
भाषा(Languages) हिंदी, इंग्लिश
वर्तमान पता (Address) दिल्ली
वैवाहिक स्थिति (Marital Status) वैवाहिक
शादी की तारीख (Wedding Date) 26 मई 1997
पत्नी का नाम (wife’s name) तरुणा वर्मा
सैलरी (Salary) पढ़ना, लिखना और ड्राइविंग

कौन है डॉ. विकास दिव्यकीर्ति (Who is Dr. Vikas Divyakirti)

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति दृष्टि आईएएस कोचिंग इंस्टीट्यूट के मालिक है. इन्होने साल 1997 में पहले ही प्रयास में यूपीएससी की सिविल सर्विस परीक्षा पास कर आल इंडिया 384 रैंक प्राप्त की और होम मिनिस्ट्री, दिल्ली में राजभाषा विभाग में सेक्शन ऑफिसर का पद मिला. सिर्फ 6 महीनें काम किया इसके बाद रिजाइन दे दिया. और साल 1999 में दृष्टि आईएएस कोचिंग की शुरुआत की.

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का जन्म और परिवार (Dr. Vikas Divyakirti Birth and Family)

डॉ विकास दिव्यकीर्ति का जन्म हरियाणा के भिवानी में 26 दिसंबर 1973 को एक समृद्ध मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ. कुछ समय भिवानी में रहने के बाद फरीदाबाद में रहने लग गए. इनके पिताजी रोहतक के महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी में हिंदी के टीचर थे. और इनकी माताजी हरियाणा के शहर भिवानी के एक स्कूल में हिंदी पढ़ाती थी. विकास अपने दोनों भाइयो के साथ उसी स्कूल में पढ़ते थे. विकास घर में सबसे छोटे है. इनके बड़े भाई अमेरिका में एक सॉफ्टवेयर कंपनी में काम करते है. और बीच वाले भाई ने यूपीएससी एग्जाम पास कर आईपीएस बने और इस समय सीबीआई में डीआईजी रैंक (vikas divyakirti brother cbi officer) पर पोस्टेड है. माता पिता आर्य समाज से ताल्लुख रखते थे और आरएसएस से भी जुड़े हुए थे.

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति की शादी   (Dr. Vikas Divyakirti Marriage)

डॉ. विकास की कॉलेज की समय में मुलाकात हुई तरुणा वर्मा से. तरुणा, विकास की एक साल जूनियर थी. धीरे धीरे प्यार परवान पर चढ़ा और 26 मई 1997 को शादी कर ली. इनका एक बेटा है सात्विक दिव्यकीर्ति.

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति की शिक्षा (Dr. Vikas Divyakirti Birth,Educational Qualification)

विकास ने 12वीं तक की पढाई भिवानी के विद्या भारती स्कूल से की उसके बाद दिल्ली चले गए. दिल्ली के जाकिर हुसैन कॉलेज के बीकॉम (ऑनर्स) में दाखिला लिया. लेकिन कॉलेज की अन्य एक्टिविट में शामिल होने की वजह से पढाई कम हुआ करती थी फिर कुछ समय बाद बीकॉम (ऑनर्स) को बदलकर इतिहास (ऑनर्स) में प्रवेश लिया. और सफलतापूर्वक इतिहास (ऑनर्स) की डिग्री प्राप्त की. ग्रेजुएशन में विकास के 51.5 % मार्क प्राप्त हुए थे.

इसके बाद एमए में एडमिशन के लिए दिल्ली यूनिवर्सिटी में कोशिश की लेकिन एडमिशन नही हुआ और जाकिर हुसैन कॉलेज के इवनिंग बैच में हिन्दी साहित्य एमए में प्रवेश लिया. एमए के फर्स्ट इयर में मन लगाकर पढाई की और यूनिवर्सिटी टॉपर बनकर 62.5% अंक हासिल हुए. एमए का फाइनल इयर में हिन्दू कॉलेज में माइग्रेशन प्रवेश लिया और वहा से इनके एमए फाइनल इयर में 65% अंक आये.

एमए फाइनल इयर के दौरान ही इन्होने नेट जेआरएफ (NET JRF) की परीक्षा भी दी और पहले ही प्रयास में क्लियर हो गई. इसके बाद साल 1995 में यूपीएससी का एग्जाम दिया और पहले ही प्रयास में परीक्षा क्लियर की और आल इंडिया 384 रैंक हासिल की.

साल 1997 में दिल्ली यूनिवर्सिटी से हिंदी साहित्य में एम.फिल और इसके बाद उत्तर आधुनिकतावाद में पीएचडी की डिग्री प्राप्त की.

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का प्रारंभिक जीवन (Dr. Vikas Divyakirti Early Life)

भिवानी के विद्या भारती स्कूल में स्टूडेंट इलेक्शन होते थे तो उनमे डॉ. विकास हमेशा चुनाव लड़ते और जीतते. स्कूल लाइफ में विकास का एजेंडा स्पोर्ट्स, डिबेट और अन्य एक्टिविटी को लेकर हमेशा रहता था. वैसे विकास बचपन से ही पढाई में सामान्य छात्र रहे है. इनके पिताजी का सपना था कि विकास दिल्ली यूनिवर्सिटी में एडमिशन ले और एबीवीपी (vikas divyakirti abvp) ज्वाइन कर प्रेसिडेंट का चुनाव लड़े. और राजनीती में जाये बड़ा नेता बने. लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंज़ूर था. विकास ने 12वीं तक की पढाई भिवानी से की उसके बाद आगे की पढाई करने दिल्ली चले गए.  फिर साल 1990 में जाकिर हुसैन कॉलेज के बीकॉम (ऑनर्स) में दाखिला लिया.

विकास दिव्यकीर्ति जब कॉलेज के प्रथम साल में थे उस समय मंडल कमीशन के आंदोलन में कूद गए थे. विकास को इस कमीशन के बारे में कोई जानकरी नही थी बस अपने दोस्तों के साथ आंदोलन में शामिल हो गए. उस समय इनकी उम्र सिर्फ 17 साल थी. इस आंदोलन ने बड़ा रूप ले लिया और कर्फ्यू लग गया,  बसे जला दी गई थी यह काम किसी और उपद्रवियों द्वारा किया गया था. विकास भीड़ का हिस्सा रहते हुए पुलिस की चपेट में आ गए और  लाठिया पड़ी.

कॉलेज के तीसरे वर्ष में प्रेसिडेंट का चुनाव लड़ने का विचार किया. क्यों कि इन दो तीन सालों में विकास कॉलेज की को-करिकुलम एक्टिविटीज में शामिल रहे थे जिनमे डिबेट, कविता, स्टेज इत्यादि. इस वजह से कॉलेज में पोपुलारिटी काफी हद तक बढ़ गई थी. लेकिन कॉलेज के कुछ असामाजिक लोगों की गलत रणनीति की वजह से चुनाव लड़ने का विचार को रद्द करना पड़ा. डॉ. विकास दिव्यकीर्ति ने अपने एक इंटरव्यू में बताया है कि उस समय जो व्यक्ति प्रेसिडेंट का चुनाव लड़ा था बाद में उन पर घातक हमला भी हुआ था. शायद इसी वजह से इन्होने चुनाव नहीं लड़ा।

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का शुरूआती करियर (Dr. Vikas Divyakirti Early Career)

  • डॉ. विकास दिव्यकीर्ति मात्र 17 साल की उम्र में सेल्समैन का काम करना शुरू कर दिया था. अपने बड़े भाई के साथ घर घर जाकर कैलकुलेटर बेचा करते थे.
  • सेल्समैन का काम करने के दौरान ही यूनिवर्सिटी में डिबेट प्रतियोगिता से पैसे कमाना शुरू किया. साल भर में 30 से 40 डिबेट को जीतकर अच्छा पैसा कमा लेते थे. तब इन्होने सेल्समैन की जॉब छोड़ दी.
  • इसके बाद एक प्रिटिंग की कंपनी में काम करना शुरू किया. वहा से प्रिंटिंग के बारे में पूरी जानकारी लेने के बाद अपने बड़े भाई के साथ मिलकर प्रिटिंग का बिजनेस चालू किया.
  • इसके बाद इन्होने कई इंस्टिट्यूट और कॉलेज में पढ़ाया और साल 1999 में दृष्टि आईएएस कोचिंग की शुरुआत की.

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का यूपीएससी सफ़र (Dr. Vikas Divyakirti UPSC Journey)

  • डॉ विकास दिव्यकीर्ति का यूपीएससी सफ़र साल 1995 में शुरू हुआ जब उनकी उम्र सिर्फ साढ़े 21 साल थी. पहला यूपीएससी फॉर्म भरा हिस्ट्री से. कुछ समय बाद मन बदल गया और फिर से फार्म भरा सोशियोलॉजी में.
  • उस समय प्रेम प्रसंग के पड़ गए थे और यूपीएससी की परीक्षा नही देने का मन बना लिया लेकिन पिता के बोलने पर परीक्षा दी और प्री क्लियर हो गया. प्री के बाद मन लगाकर पढाई की और मेंस और इंटरव्यू भी क्लियर हो गया. साल 1997 में अपने पहले ही प्रयास में आल इंडिया 384 रैंक प्राप्त की.
  • यूपीएससी परीक्षा पास करने के बाद पहली सर्विस सीआईएसएफ में असिस्टेंट कमांडेंट के रूप में मिली. लेकिन अनफिट होने की वजह से फ़ैल हो गए. इसके बाद केंद्रीय सचिवालय सेवा में काम करने का मौका मिला. कुछ समय होम मिनिस्टर में काम किया
  • लेकिन विकास का लक्ष्य तो आईएएस बनना था तो केंद्रीय सचिवालय सर्विस से अवकाश लेकर घर पर रहकर पढाई की. दुसरे प्रयास में कुछ नंबर से मेंस एग्जाम पास नही कर सके. उन्हें लगा कि वैकल्पिक विषय सोशियोलॉजी की वजह से नंबर अधिक नही आ रहे थे.
  • तीसरे प्रयास में इन्होने वैकल्पिक विषय सोशियोलॉजी को बदलकर फिलोसोफी चुना लेकिन इस बार इंटरव्यू पास नही कर पाए.
  • उस वक्त जनरल कैटगरी को 4 एटेम्पट मिला करते थे तो साल 1999 और 2000 में दृष्टि आईएएस कोचिंग की शुरुआत की. सफलतापूर्वक कोचिंग का चल जाने के बाद साल 2003 में अपना लास्ट प्रयास करने के बारे में सोचा. इस प्रयास में इन्होने अपना प्री का एग्जाम सेंटर मुंबई और मेंस का बेंगलोर को चुना क्यों कि दिल्ली में खुद के स्टूडेंट के सामने परीक्षा देना थोडा असहज होता. लेकिन इस बार भी इंटरव्यू में फेल हो गए. और इनका यूपीएससी सफ़र का अंत हो गया.

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का सर्विस करियर (Dr. Vikas Divyakirti Service Career)

2 जून 1999 को केंद्रीय सचिवालय में सर्विस ज्वाइन की. 4 महीने की दिल्ली में ही ट्रेनिंग हुई इसके बाद गृह मंत्रालय में राज भाषा विभाग में सेक्शन ऑफिसर के पद पर काम करने का मौका मिला. सिर्फ 6 महीने गृह मंत्रालय में काम किया और इसके बाद इस्तीफा दे दिया.

दृष्टि आईएएस कोचिंग की शुरुआत (Drishti IAS Coaching)

  • डॉ विकास दिव्यकीर्ति ने जून 1999 में केंद्रीय सचिवालय के राज भाषा में सर्विस ज्वाइन तो की लेकिन 6 महीने में इस्तीफा दे दिया. इसके बाद इन्हें कोई और दूसरी सर्विस नही मिल रह थी क्यों कि केंद्रीय सचिवालय से रिलीफ लेटर 18 महीने बाद यानि अक्टूबर 2001 में मिला. इसी बीच इन्होने दृष्टि आईएएस कोचिंग की शुरुआत की.
  • साल 2000 में यूपीएससी का सिलेबस चेंज हुआ था यह इनके लिए रामबाण साबित हुआ इन्होने कड़ी मेहनत की और समाजशास्त्र और दर्शन की क्लास शुरू की. और धीरे धीरे बच्चे आना शुरू हुए।
  • दृष्टि में रहते हुए इन्होने जनरल स्टडी, दर्शन, हिंदी और निबंध पढ़ाते थे. साल 2011 के बाद दर्शन पढाना छोड़ दिया. वर्तमान में 1 हज़ार लोगो का स्टाफ है.
  • भारत में इनके सभी बड़े शहर में दृष्टि आईएएस के इंस्टिट्यूट है और सभी में हज़ारो की तादाद में स्टूडेंट पढ़ाते है।

श्रेय और आभार – The Lallantop

निष्कर्ष– आज के इस लेख में हमने आपको बताया डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय (Dr. Vikas Divyakirti Biography In Hindi) के बारें में. उम्मीद करते है आपको यह जानकारी जरूर पसंद आई होगी.

FAQ

Q : क्यों विकास दिव्यकीर्ति आईएएस छोड़ दिया
Ans : विकास दिव्यकीर्ति को प्रॉपर आईएएस नही मिला था इन्हें गृह मंत्रालय में राजभाषा विभाग में सेक्शन ऑफिसर की जॉब मिली थी. सिर्फ 6 महीने काम किया फिर इस्तीफा दे दिया. इनको बनना तो सिर्फ आईएएस ही था.

Q : विकास दिव्यकीर्ति आईएएस रैंक क्या थी?
Ans : 384 रैंक

Q : दृष्टि आईएएस के मालिक कौन है?
Ans : डॉ. विकास दिव्यकीर्ति

Q : दृष्टि कोचिंग के संस्थापक कौन है?
Ans : डॉ. विकास दिव्यकीर्ति

Q : दृष्टि आईएएस कोचिंग की फीस कितनी है?
Ans : 1 लाख 55 हज़ार से लेकर 2 लाख 50 हज़ार तक

Q : विकास दिव्यकीर्ति की उम्र क्या है?
Ans : 49 साल  (2022)

Q : विकास दिव्यकीर्ति का जन्म स्थान कहाँ है?
Ans : भिवानी, हरियाणा में

Q : Dr विकास दिव्यकीर्ति का जन्मदिन कब है?
Ans : 26 दिसंबर को

Q : डॉ. विकास दिव्यकीर्ति ने किस सब्जेक्ट से ग्रेजुएशन किया है?
Ans : इतिहास (ऑनर्स) से

Q : विकास दिव्यकीर्ति की पत्नी का नाम क्या है?
Ans : तरुणा वर्मा

यह भी पढ़े

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here