चीता और बाघ के बीच क्या अंतर है?

Cheetah In India – तक़रीबन 70 साल बाद एक बार फिर से भारत में चीतों को लाया गया है. 17 सितम्बर 2022 को भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन (Pm Modi Birthday) के विशेष अवसर पर कुनो राष्ट्रीय उद्यान, मध्य प्रदेश में छोड़ा गया. भारत में अंतिम बार चीते को 1947 में देखा गया था. और साल 1952 में चीते को विलुप्त घोषित कर दिया था. लेकिन जंगलों के इकोसिस्टम को देखते हुए चीते का बसना जरुरी है.

अफ्रीका के नामीबिया (Namibia) से स्पेशल प्लेन के जरिये लकड़ी के बने खास बक्से में 8 चीतों को लेकर 16 सितम्बर 2022 की रात को उडान भरी और तक़रीबन 10 घंटो के सफ़र के बाद 17 सितम्बर की सुबह 8 बजे ग्वालियर हवाई अड्डे पर उतरा. वायु सेना के चिनूक हेलिकॉप्टर से कुनो राष्ट्रीय उद्यान के दो बाड़ों में छोड़ा गया. अगले 5 सालों में 20 चीतों को कूनो नेशनल पार्क में पुर्नवास होगा. वर्तमान समय में पूरी दुनिया में कुल 17 देशों के करीब 7 हज़ार चीते मौजूद है.

वर्तमान में देश में चीता, तेंदुआ, शेर और बाघ एक साथ देखने को मिल जायेगे और यह चारों जानवर काफी शक्तिशाली और तेज़ तरार्र होते है तेदुंए और शेर को पहचान करना काफी आसान है लेकिन कई लोगो के जेहन में इस बात को लेकर असमंजस बना रहता है कि चीता और बाघ में क्या अंतर (Cheetah Aur Bagh Mein Kya Antar Hai) है. तो चलिए आज हम आपको चीता और बाघ के बीच अंतर बताने वाले है.

Cheetah In India

चीता और बाघ के बीच क्या अंतर है?

वैसे तो दोनों जानवर अपनी फुर्तीली और तेज रफ्तार के लिए जाने जाते है. दोनों की कैट फैमिली से आती है. इन दोनों की पहचान इनके रंग से होती है चलिए हम नीचे विस्तार से बताते है-

चीता (Cheetah)

चीता तेज स्पीड से दौड़ने वाले सभी जानवरों में से एक हैं. यह बड़ी बिल्ली के परिवार से आता है. यह 72 मील प्रति घंटा की स्पीड से दौड़ता है. लेकिन यह लंबे समय तक नही दौड़ सकता है. चीते को अगर देखा जाये तो यह बाघ और शेर के मुकाबले में पतला होता है. और सिर भी छोटा होता है. इसके अलावा कमर भी पतली सी होती है. चीते की बॉडी पर काले रंग के धब्बे और चेहरे पर काले रंग की धारियां होती है. यह धारियां इनकी आँखों के पास से मुंह से कानों तक होती है. चीता अधिकतर दिन में शिकार करते है और यह बिल्कुल भी दहाड़ नहीं लगा सकते है.

बाघ (TIGER)

बाघ यानि टाइगर बिल्ली के परिवार की सबसे बड़ी बिल्ली है. इनकी बॉडी पर दिखने वाली काली धारियों से टाइगर की पहचान की जा सकती है. टाइगर काफी लम्बे, शक्तिशाली और अधिक वजदार होते हैं. टाइगर के पैर अधिक मजबूत होते है और यह बहुत सक्रिय और फुर्तीले जानवरों में से एक हैं. इन्हें अकेले में शिकार करना पसंद है और यह पानी में तैरना जानते है. टाइगर अधिकतर दक्षिण पूर्व एशिया, भारत और चीन में पाए जाते हैं.

चीते भारत से विलुप्त क्यों हुए? 

इंडियन गवर्मेंट ने ऑफिसियल रुप से साल 1952 में चीते को भारत से विलुप्त की घोषणा की थी. ऐसा कहा जाता है कि पहले देश में तक़रीबन 1 हज़ार जीते हुआ करते थे लेकिन सरगुजा (छत्तीसगढ़) के महाराजा रामानुज प्रताप सिंह देव ने साल 1947 में भारत के लास्ट तीन चीतों को कोरिया के बैकुंठपुर के जंगल से मार दिया था. इसके बाद से कही भी चीते दिखाई नही दिए. महाराजा रामानुज प्रताप सिंह देव को शिकार का काफी शौक हुआ करता था और उनका महल बैकुंठपुर जो कि घने जंगलों से घिरा हुआ था वहा पर कई खूखार जंगली जानवर रहते थे. और गाँव के लोग भयभीत रहते थे. जब सभी लोग ने महाराजा रामानुज से अपनी जान की गुहार लगाई तब महाराजा अपनी बंदूक लेकर जगल की तरह चल पड़े और तीनों चीतों को चित कर दिया. ऐसा कहा जाता है कि महाराजाओं को चीते का शिकार करना काफी पसंद था.

75 साल बाद क्यों लाये गए चीते?

देश के जंगलो में चीते को वापस लेन के लिए ‘प्रोजेक्ट चीता’ शुरू किया गया है. इन पांच सालो ने देश के कई नेशनल पार्क में 50 चीतों का पुनर्वास किया जायेगा. 8 चीते तो अफ्रीका के नामीबिया से लाकर 900 वर्ग किमी में फैले कूनो के जंगलों में छोड़े दिया गया है. और बाकि भी धीरे धीरे लेन का प्रोसेस चलता रहेगा.

देश के इकोसिस्टम के लिए चीते का होना आवश्यक है. चीता फ़ूड चैन का सबसे अहम कड़ी है. इनके न होने से फ़ूड चैन सिस्टम में असर दिखने लगता है. भारत में चीता तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, ओडीसा, झारखंड, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में पाए जाते थे. लेकिन बाद में धीरे-धीरे इनकी संख्या कम होती गई. जिससे इनके नही होने का असर जंगलों के भू-क्षेत्र में देखने को मिला और वहा का पूरा इकोसिस्टम खत्म हो गया. इन इलाकों से कई शाकाहरी जीव का वजूद खत्म हो गया जिसकी वजह से घास के मैदान नष्ट हो गए पर्यावरण का संतुलन बिगड़ गया.

चीता के बारे में रोचक तथ्य (Cheetah Facts In Hindi)

  • चीता 3 सेकंड में 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ने वाला बिग कैट फैमिली का जानवर है. यह उसैन बोल्ट से भी डबल स्पीड में दौड़ता है.
  • मादा चीता की 14 से 15 साल और नर चीता की 10 से 12 साल की उम्र होती है.
  • मादा चीता एक बार में करीब 2 से 5 बच्चे को जन्म दे सकती है. और इसका गर्भ पीरियड 3 महीने का होता है.
  • चीते की आँखों का डायरेक्शन एकदम सीधा होता है और यह कई मील दूर तक देख सकता है. इसकी आँखों में इमेज स्टेबिलाइजेशन सिस्टम पाया जाता है. जिसकी वजह से अगर चीता तेज़ स्पीड में भी दौड़ रहा है तो वह अपने शिकार को आसानी से देख सकता है.
  • चीता बड़ी बिल्ली के परिवार का एकलौता ऐसा सदस्य है जो दहाड़ नहीं सकता है यह सिर्फ गुर्राता है.
  • चीते का दिल शेर के दिल की तुलना में 3 गुना बड़ा होता है जिस वजह से दौड़ते समय बड़ी आसानी से भरपूर ओक्सीजन ले पाता है. जिससे पूरी बॉडी में खून पंप होता है और जल्द मांसपेशियों तक ऑक्सीजन की सप्लाई होती है.
  • 96 प्रतिशत मादा चीते के बच्चे बड़े होने से पहले ही मर जाते हैं.
  • एक समय भारत में 1000 चीते मौजूद थे लेकिन शिकार और दुसरे जानवर के हमलों के शिकार से इनकी संख्या कम होती गई.
  • देश के अंतिम तीन चीते को साल 1947 में छत्तीसगढ़ के कोरिया के महाराजा ने मार डाला था जिसके बाद साल 1952 में भारत सरकार ने इन्हें विलुप्त घोषित कर दिया था.
  • 70 साल बाद साल 2022 सितम्बर में अफ्रीका के नामीबिया से 8 चीतों को भारत लाया गया और साल 2027 तक देश में 50 चीते हो जायेगे.
  • वर्तमान में दुनिया में करीब 7 हज़ार चीते बचे है और यह 17 देशों के जंगलो में मौजूद है. जिनमे से ज्यादातर अफ्रीकी के सवाना में पाए जाते हैं.

निष्कर्ष– आज के इस लेख में हमने आपको बताया चीता और बाघ (Cheetah Aur Bagh Mein Kya Antar Hai) के बीच अंतर. उम्मीद करते है आपको यह जानकारी जरुर पसंद आई होगी.

FAQ

Q : चीता जानवर को इंग्लिश में क्या कहते हैं?
Ans : cheetah

Q : चीता का वैज्ञानिक नाम क्या है?
Ans : एसिनोनिक्स जुबेटस

Q : चीते की उम्र कितनी होती है?
Ans : 10 से 12 साल

Q : भारत में चीता कब लाया गया?
Ans : 17 सितम्बर 2022 को

Q : भारत में नामीबिया से कितने चीते लाये गये?   
Ans : 8 चीते

Q : अफ्रीका से लाए चीतों को कहा छोड़ा गया?
Ans : कूनो नेशनल पार्क में

Q : कूनो नेशनल पार्क कहाँ स्थित है?
Ans : मध्य प्रदेश राज्य के श्योपुर जिले से करीब 64 किलोमीटर दूर

Q : क्या भारत में चीते विलुप्त हो गए हैं?
Ans : साल 1952 में भारत सरकार ने चीतों को विलुप्त घोषित किया था.

Q : किस देश में चीतों की संख्या सबसे ज्यादा है?
Ans : दक्षिण अफ्रीका और जाम्बिया

Q : भारत में कितने चीते बचे हैं?
Ans : साल 1947 में तीन चीते बचे थे लेकिन उन्हें भीसरगुजा के महाराजा रामानुज प्रताप सिंह देव ने मार गिराए थे.

Q : चीते भारत कब आये है?
Ans : 17 सितंबर, 2022 को

यह भी पढ़े

 

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here