RIP का क्या मतलब होता है? RIP Full Form in Hindi

RIP का फुल फॉर्म , Rest In Peace, रिप का मतलब , Meaning Of RIP, RIP full form in hindi

RIP Full Form in Hindi – इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में कब किसी को क्या हो जाये ये किसी को नही पता होता. लेकिन दुर्घटना में किसी इंसान की मृत्यु हो जाती है तो लोग इसका मातम मनाते है. और इस बात की जानकारी सोशल मीडिया पर पता चल जाये तो लोग RIP लिख देते है. ये शब्द बोलचाल में अक्सर हम बोलते और लिखते है. लेकिन इसका फुल फॉर्म क्या होता है शायद अधिकतर लोगो को इस बारे में नही पता होगा लेकिन आज के इस आर्टिकल में हम आपको RIP का क्या मतलब, RIP का अर्थ, RIP का फुल फॉर्म  के बारे में पूरी जानकारी देने वाले है.

RIP-Full-Form

RIP का मतलब लोग अलग अलग तरीके से निकलते है, लेकिन यह शब्द रिप (RIP) का Meaning व RIP Full Form सोशल मीडिया पर अधिकतर लिया जाता है.

RIP का मतलब

RIP Full Form Rest in Peace
RIP का इस्तमाल सोशल मीडिया
RIP शब्द की उत्पति ईसाई धर्म
RIP Latin Name Requiescat in Pace (आत्मा को शांति में विश्राम के लिए की जाने वाली प्रार्थना)
Rest in Peace in Hindi शांति से आराम करो
RIP Meaning in Hindi आत्मा की शांति (श्रद्धांजलि)
RIP शब्द का हिन्दू धर्म में मतलब भगवान उनकी आत्मा को शांति दे
RIP Full Form in Hindi रेस्ट इन पीस

RIP का फुल फॉर्म  और हिंदी में अर्थ (What is the RIP Full Form)

रिप (RIP) का फुल फॉर्म होता है, REST IN PEACE  और हिदी में अर्थ होता है ‘शान्ति से आराम करो’

RIP का इतिहास (History of RIP in Hindi)

RIP लेटिन शब्द Requiescat In Pace से लिया गया है जिसका अर्थ होता है, मृत आत्मा को शांति में विश्राम के लिए की जाने वाली प्रार्थना.आरआईपी (RIP) का इस्तमाल सर्वप्रथम 18वीं शताब्दी में ईसाइयों द्वारा शुरू किया गया. ईसाई धर्म में मौत हो जाने के बाद शव को जमीन में दफनाया जाता है. और उनकी कब्र पर RIP लिखा जाने लगा. ईसाइयों का मानना था कि मृत्यु हो जाने के बाद आत्मा को शरीर से अलग कर दिया जाता है, लेकिन यह कि एक दिन आत्मा और शरीर को फिर से “क़यामत का दिन” या “जजमेंट डे“ पर फिर से मिलाया जाएगा. इस दिन मृत्यु हो जाने के पश्चात् शरीर से आत्मा अलग हो जाती है. आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करते है कि दिवंगत आत्मा को शांति दे और उन्हें अपने चरणों में स्थान प्रदान करे. जिसे हम REST IN PEACE या RIP भी कहते है.

टीआरपी (TRP) क्या है और इसकी गणना कैसे होती है ?

RIP का इस्तेमाल कहा करते है (RIP Message)

जब किसी इंसान की मृत्यु हो जाती है तो लोग RIP का इस्तेमाल करते हुए भगवान से उनकी दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते है. सरल शब्दों में बात करे तो RIP शब्द मृतकों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए किया जाता है। लेकिन आज का युग सोशल मीडिया है. यहाँ पर बातचीत के दौरान  Ok, OMG, Hello, RIP जैसे शार्टकट का प्रयोग करते है. जब हम सोशल मीडिया कुछ इस तरह की पोस्ट देखते है जिसे देखकर हमारा मन भाव प्रकट करता है और हम श्रद्धांजलि देने के लिए RIP लिख देते है. RIP दिखने में एक छोटा सा शब्द है लेकिन इसके भाव दिवंगत आत्मा की शांति के लिए होता है. आपने भी कभी न कभी कमेंट बॉक्स में इस शब्द को लिखा होगा.

RIP Quotes in Hindi

मुझे ये सुनकर बहुत ही दुःख हुआ
भगवान उनकी दिवंगत आत्मा को शांति दें

आपके परिवार के निधन की दुखद खबर मिली,
सुनकर हमे भी अत्यंत दुख हुआ,
बह्ग्वान करे उनकी आत्मा को शांति दे।
और अपने चरणों में स्थान प्रदान करे

दुःख कितना भी बलवान क्यों ना हो
धैर्य बनाये रखिये
समय का चक्र आपको हारने नहीं देगा ..

आपके प्रिय आत्मन के स्वर्गवास के दुःख को
व्यक्त कर पाने के लिए कोई शब्द नहीं है।
कृपया मेरी संवेदना स्वीकार करें,
मैं हमेशा आपके साथ हूँ

हम आपके और आपके परिवार के लिए प्रार्थना करते है।
ईश्वर जो भी करता है अच्छा ही करता है,
हो सकता है कि इस बार उन्होंने आपके परवर के लिए जो फैसला किया हो,
ताकि वह आराम कर सके,
भगवान आपकी आत्मा को शांति दें

बड़ा ही गम दिया
कैसे संभल पायेंगे
जब भी चलेंगे संभलकर
आप ही याद आयेंगे

गये तुम छोड़कर हमें
तो आ गई है हताशा
याद आओगे हर पल
मिलने की इच्छा होगी बेतहाशा

निष्कर्ष – तो आज के इस आर्टिकल में हमने आपको बताया कि RIP का क्या मतलब, RIP का अर्थ, RIP का फुल फॉर्म का मतलब, अगर आपको कोई सुझाव देना है तो कमेंट करके जरूर दे।

FAQ

Q : जब किसी की डेथ होती है तो RIP क्यों लिखते हैं?
Ans : उनकी आत्मा की शांति के लिए RIP लिखते है यानि रेस्ट इन पीस (भगवान उनकी आत्मा को शांति दे)

Q : आर आई पी का फुल फॉर्म क्या है?
Ans : Rest in peace

Q : किसी के मरने पर क्या लिखें?
Ans : विनम्र श्रद्धांजलि

Q : श्रद्धांजलि कैसे भेजें?
Ans : आपके परिवारजन के निधन की खबर सुनकर काफी दुःख हुआ. हम ईश्वर से कामना करते है कि इस दुःख की घडी में भगवान आपको मजबूत बनाये रखे. हमारी संवेदना सदैव आपके साथ है , दिवंगत आत्मा को शन्ति दें

यह भी पढ़े

 

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here