रतन टाटा का जीवन परिचय | Ratan Tata Biography in Hindi

Rate this post

रतन टाटा का जीवन परिचय, जन्म, परिवार, घर, संपति, शेयर, जीवनी, पत्नी, उम्र, नेट वर्थ, इतिहास, सम्मान और पुरस्कार (Ratan Tata Biography in Hindi, Birth, wife, family, age, son, net worth, Life, Education, success, Donation, Quotes)

भारत ने सबसे बड़े उद्योगपतियों में से एक रतन टाटा जी का पूरा जीवन अपने आप मे हर युवा के लिए एक प्रेरणा है। आज रतन टाटा का जीवन परिचय (Ratan Tata Biography in Hindi) में हम आपको इनकी जीवन गाथा बताने वाले हैं हम जानेंगे कि कैसे एक बच्चा जिसे बचपन मे ही अपने माता पिता के प्यार से महरूम रहना पड़ा, वह देश का इतना बड़ा उद्योगपति बना। तो चलिए शुरू करते हैं।

रतन टाटा का जीवन परिचय (Ratan Tata Biography in Hindi)

नाम (Name) रतन टाटा (Ratan Tata)
पूरा नाम (Full Name) रतन नवल टाटा
जन्म तारीख (Date Of Birth) 28 दिसंबर 1937
जन्मदिन (Ratan Tata Birthday) 28 दिसंबर
उम्र (Ratan Tata Age) 85 वर्ष (2022)
जन्म स्थान (Place) सूरत, गुजरात
शिक्षा (Education ) बी.एस. डिग्री संरनात्मक इंजीनियरिंग एवं वास्तुकला में उन्नत प्रबंधन कार्यक्रम
स्कूल (School) कैंपियन स्कूल और कैथेड्रल और जॉन कॉनन स्कूल, मुंबई
कॉलेज (Collage) कॉर्नेल विश्वविधालय,
हार्वर्ड विश्वविधालय
होम टाउन (Hometown) मुंबई
व्यवसाय  (Business) टाटा समूह के रिटायर्ड अध्यक्ष
अवार्ड (Award) पद्म भूषण, पद्म विभूषण
नागरिकता (Nationality) भारतीय
राशि (Zodiac Sign) तुला राशि
धर्म (Religion) पारसी
वैवाहिक स्थिति (Marital Status) अवैवाहिक
कुल संपत्ति (Ratan Tata Net Worth) 3800 करोड़

 

प्रारंभिक जीवन और परिवार (Ratan Tata Birth, Age, Family, and Education)

टाटा समूह के पूर्व अध्यक्ष रतन टाटा है। 28 दिसंबर 1937 को रतन टाटा का जन्म सूरत गुजरात में हुआ था। रतन टाटा के फादर का नाम नवल टाटा है तथा इनकी मदर का नाम सोनू टाटा है। इसके साथ ही आपको बता दूं इनके दादा जी का नाम श्री जमशेदजी टाटा है।

इन सब के अलावा इनके परिवार में इनकी एक सौतेली मां भी थी। कहने का तात्पर्य यह है कि रतन टाटा के पिता नवल टाटा ने दूसरी शादी सिमोन टाटा से किया था और सिमोन टाटा का एक बेटा भी है जिसका नाम नोएल टाटा है। लेकिन खुश हाल जीवन में एक मोड़ ऐसा आया जब रतन के माता पिता दोनो डिवोर्स लेकर अलग अलग रहने लगे।

उस समय रतन टाटा की आयु महज 10 वर्ष ही थीं। उस उम्र में उन्हें माता पिता की सख्त जरूरत थी और इस जरूरत को रतन टाटा की दादी जिनका नाम नवजबाई टाटा है इन्होंने ही दोनों भाइयों का लालन पालन काफी अच्छी तरह से किया। बताया जाता है कि नवजबाई टाटा काफी दयालु किस्म की इंसान थी। लेकिन जब अनुशासन की बात आती तो ये काफी कठोर बन जाती है।

रतन टाटा की शिक्षा (Ratan Tata Education)

यदि हम रतन टाटा की शिक्षा की बात करें तो इन्होंने कैपियन नाम के स्कूल से अपनी पढ़ाई की शुरुआत किया और इसके साथ ही उन्होने कार्निल यूनिवर्सिटी जो की लंदन में है वहां से आर्किटेक्चर एंड स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग की ग्रेजुएट की डिग्री भी हासिल किया है  और उसके बाद फिर उन्होंने हार्वड हाई स्कूल से एडवांस मैनेजमेंट प्रोग्राम कोर्स को भी पूरा किया।

यही नहीं रतन टाटा को प्रतिष्टित कंपनी IBM से जॉब  का अच्छा खासा ऑफर भी प्राप्त हुआ था, लेकिन रतन टाटा ने उस ऑफर को एक्सेप्ट नहीं किया और अपने पुश्तैनी व्यवसाय को ही आगे बढ़ाने का निर्णय लिया। वैसे देखा जाए तो उनका यह निर्णय काफी हद तक बेहतर भी साबित हुआ।

रतन टाटा के पसंदीदा चीजें (Ratan Tata favorite) 

तो चलिए अब जानते हैं की आखिर रतन टाटा के पसंदीदा चीजें कौन कौन सी थी :-

पसंदीदा खाना इड़ा चटनी पेटिस, पारसी व्यंजन, पटरानी मच्छी
पसंदीदा व्यवसायी J.R.D TATA
पसंदीदा कलर Red
पसंदीदा कार फरारी

रतन टाटा की शादी और पत्नी (Ratan Tata Wife)

वैवाहिक स्थिति कैसी थी इनकी शादी नही हुई थी।
रतन टाटा की शादी यानी की विवाह हुआ था या नहीं रतन टाटा की पत्नी नहीं थी।
इनका कोई बच्चा था (Ratan Tata Son) इनका कोई बच्चा नहीं था।

रतन टाटा का करियर (Ratan Tata Career )

जानकारी के मुताबिक साल 1955 से लेकर साल 1962 तक रतन टाटा अमेरिका में रहते थे यही कारण है कि वे अमेरिका से काफी ज्यादा प्रभावित भी हुए थे।  रतन टाटा जब अमेरिका रहते थे तो उन्हें कैलिफोर्निया और वेस्ट कोस्ट के रहन सहन इतना पसंद आ जाते हैं की उन्होंने लॉस एंजिल्स में ही रहने का अपना पूरा निर्णय ले लिया था।

लेकिन किस्मत को ये मंज़ूर नहीं था और कुछ वक्त के पश्चात ही उनकी दादी जिनका नाम नवाजबाई था उनकी तबियत अचानक से काफी ज्यादा खराब होने लगी जिसकी वजह से ही उन्हें अमरीका में रहने का निर्णय को बदलना पड़ा और वे भारत आ गए। जब रतन टाटा इंडिया वापस आए तब उनके पास केवल IBM की नौकरी थी। परंतु देखा जाए तो JRD टाटा को इनकी वापसी की थोड़ी भी खुशी नहीं थी।

JRD टाटा ने वर्ष 1962 में रतन टाटा को Tata Group की कंपनी में कार्य करने की ऑफर किया है और इस प्रकार देखा जाए तो रतन टाटा का टाटा ग्रुप से जुड़े। एक रिपोर्ट के अनुसार देश के सबसे बड़े टाटा ग्रुप में शामिल होने के पश्चात उन्होंने स्टार्टिंग के दिन में रतन टाटा ने टाटा स्टील के शॉप फ्लोर पर कार्य किया है।

रतन टाटा  सम्मान और पुरस्कार (Ratan Tata Awards  Achievements )

दोस्तों जैसा कि मैंने आपको पहले भी जानकारी दिया है रतन टाटा को सन 2000 में पद्म भूषण और साल 2008 में इन्हें पद्म विभूषण जैसे बड़े बड़े अवार्ड्स भारत सरकार के माध्यम से प्रदान किया गया।

वर्ष नाम पुरस्कार देने वाला संगठन
2000 पद्म भूषण भारत सरकार द्वारा
2008 पद्म विभूषण भारत सरकार द्वारा
2001 बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन के मानद डॉक्टर ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी
2004 उरुग्वे के ओरिएंटल गणराज्य की पदक उरुग्वे सरकार
2004 प्रौद्योगिकी के मानद डॉक्टर एशियन इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
2005 साइंस की मानद डॉक्टर वारविक विश्वविद्यालय
2006 साइंस की मानद डॉक्टर इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मद्रास
2007 मानद फैलोशिप अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान के लंदन स्कूल
2007 परोपकार की कार्नेगी पदक अंतर्राष्ट्रीय शांति के लिए कार्नेगी एंडोमेंट
2008 लॉ की मानद डॉक्टर कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
2008 साइंस की मानद डॉक्टर इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मुंबई
2008 साइंस की मानद डॉक्टर इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी खड़गपुर
2008 मानद फैलोशिप इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी संस्थान
2009 ब्रिटिश साम्राज्य के आदेश के मानद नाइट कमांडर यूनाइटेड किंगडम
2009 इतालवी गणराज्य की मेरिट के आदेश के ‘ग्रैंड अधिकारी’ का पुरस्कार इटली सरकार
2010 लॉ की मानद डॉक्टर कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
2010 लॉ के मानद डॉक्टर पेप्परडाइन यूनिवर्सिटी
2012 बिजनेस के मानद डॉक्टर न्यू साउथ वेल्स यूनिवर्सिटी
2013 बिजनेस प्रैक्टिस के मानद डॉक्टर कार्नेगी मेलन यूनिवर्सिटी
2014 सयाजी रत्न पुरस्कार बड़ौदा प्रबंधन संघ
2014 लॉ की मानद डॉक्टर यॉर्क यूनिवर्सिटी, कनाडा
2021 असम बैभव असम सरकार द्वारा

 

रतन टाटा की प्रेम कथा (Ratan Tata Love Life)

मैंने आपको पहले ये बताया है कि रतन टाटा ने शादी नहीं किया था लेकिन क्या आप जानते हैं कि आखिर शादी न करने की वजह क्या है। कहने का तात्पर्य यह है कि रतन टाटा ने शादी क्यों नहीं की इसका मुख्य कारण क्या था। तो चलिए अब हम आपको इसके मुख्य वजह के बारे में जानकारी देंगे जिसे जानकारी आप काफी चौक जायेंगे।

जानकारी के मुताबिक शादी न करने की मुख्य वजह थी प्रेम। हालांकि, कई लोगों को यह शक था लेकिन प्रेम कहानी की ऑफिशियल तौर पर कोई पुष्टि नहीं कही किया गया था परंतु हाल ही में इस बात का खुलासा खुद रतन टाटा ने ही कर दिया।

रतन टाटा ने जब अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त कर ली तब लॉस एंजेलिस की एक कंपनी में रतन टाटा की एक आर्किटेक्चर फर्म में जॉब लग गई। उस दौर में रतन टाटा के पास उनकी खुद की कार मौजूद थी। उनके जीवन में उस समय सब कुछ बेहतर चल रहा था। मगर मैने आपको ऊपर भी बताया है की उनकी दादी की बीमारी की वजह से उन्हें वहां की नौकरी छोड़नी पड़ी और भारत वापस आना पड़ा।

रतन टाटा ने अपनी जीवनी कथा में यह भी बताया की जब उन्हें भारत आना था तब वे एक लड़की से प्रेम करते थे और वे भारत आने से पहले उस प्रेमिका को यह प्रोमिस किया की वे केवल उनसे ही प्रेम करते है और शादी भी उन्ही से करेंगे। ये कह कर रतन टाटा भारत आए थे। उसके कुछ वक्त बाद साल 1962 में भारत और चीन में युद्ध छिड़ गई।

भारत और चीन में युद्ध छिड़ जाने के वजह से रतन टाटा समय रहते लॉस एंजेलिस नहीं पहुंच पाए। जिसकी वजह से जिस प्रेमिका से वे शादी करना चाहते थे उसके माता पिता ने इस युद्ध का कारण देते हुए इनके रिश्ते को नहीं माना और प्रेमिका का विवाह किसी और के साथ कर दिया गया।

यही वजह है कि आज भी रतन टाटा अपने वादे को पूरी ईमानदारी के साथ निभा रहे हैं और आज तक शादी नहीं किया। रतन टाटा ने शादी क्यों नहीं किया इसके पीछे का कारण बस यही था। वैसे रतन टाटा की काफी दिलचस्प प्रेम कथा थी।

रतन टाटा का सपना टाटा नैनो (Ratan Tata Dream Nano Car)

भारत में सबसे सस्ती और किफायती कार को लॉन्च करना ही रतन टाटा का सपना था। विस्तार से जाने तो रतन टाटा भारत के नागरिकों के लिए सबसे सस्ती, बेहतरीन और किफायती गाड़ी को बाजार में पेश करना चाहते थे और उन्होंने अपने इस सपने को जल्द ही साकार करके दुनिया को अपनी काबलियत को साबित भी किया।

टाटा मोटर्स के द्वारा साल 2008 में सबसे किफायती कार नैनों कार को भारत के बाजारों में लॉन्च किया गया। यदि हम इस कार की कीमत की चर्चा करें, तो इस कार की कीमत केवल 1 लाख रूपए है। रिपोर्ट के अनुसार, भारत में सबसे पहली और सबसे सस्ती कार नैनों कार है।

रतन टाटा के अनमोल विचार  (Ratan Tata Best quotes in Hindi )

  • काम हमेशा वही करें जिसमें आपको मजा आए ~ रतन टाटा
  • अगर आप तेजी से चलना चाहते हैं तो अकेले चलिए। लेकिन अगर आप दूर तक चलना चाहते हैं तो साथ मिलकर चलिए ~ रतन टाटा
  • दुनिया में हर इंसान मेहनत करता है , फिर भी सफलता सबको नहीं मिलती . मेहनत ऐसी कीजिए , जैसे सफल लोग करते हैं ~ रतन टाटा
  • मैं सही निर्णय लेने में विश्वास नहीं करता। मैं निर्णय लेता हूँ और फिर उन्हें सही साबित कर देता हूँ ~ रतन टाटा
  • अपने जीवन की परिस्थितियों और अपनी प्रतिभाओं के अनुसार अपने लिए अवसर एवं चुनौतियों को चिन्हित करना चाहिए ~ रतन टाटा
  • दूसरों की नकल करने वाले व्यक्ति थोड़े समय के लिए सफलता तो प्राप्त कर सकते हैं परंतु जीवन में बहुत आगे नहीं बढ़ सकते हैं ~ रतन टाटा

निष्कर्ष (Conclusion)

दोस्तों, उम्मीद है कि आपको रतन टाटा का जीवन परिचय (Ratan Tata Biography in Hindi) सुनकर प्रेरणा मिली होगी। आज के लेख में मैंने रतन टाटा की जीवनी कथा से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी को आपके साथ शेयर किया है। यदि आपको रतन टाटा जी की कहानी पसंद आए तो इसे अपने मित्रों के साथ शेयर करना ना भूले।

FAQ

Q : रतन टाटा के माता पिता कौन थे?
Ans : नवल टाटा ( पिता) और सूनी टाटा ( माता)

Q : टाटा कंपनी के संस्थापक कौन है?
Ans : जमशेदजी टाटा

Q : रतन टाटा के पास कितने रुपए हैं?
Ans : 150 से भी ज्यादा देशों में 100 से भी ज्यादा कंपनियों के मालिक है,  उनकी पुरी कमाई 7,350 करोड़ रुपये है.

यह भी पढ़े

 

 

 

Previous articleकैवल्य वोहरा का जीवन परिचय | Kaivalya Vohra Biography In Hindi
Next articleविक्रम किर्लोस्कर का जीवन परिचय | Vikram Kirloskar Biography in Hindi
Founder of Wonder Facts Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here