क्या है एसपीजी सुरक्षा | SPG Security kya hai

भारत के प्रधानमंत्री, पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवार की सुरक्षा के लिए एसपीजी (SPG Security) को तैनात किये जाते है। एसपीजी एक VVIP सिक्योरिटी की श्रेणी में आती है, इसका गठन तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उनके सुरक्षाकर्मी के द्वारा हत्या हो जाने के बाद शुरू की गई थी।

Special Protection Group

क्या है एसपीजी (SPG) सुरक्षा ?

एसपीजी कमांडो (SPG Commando)  देश की सबसे आधुनिकतम और कुशल सुरक्षा बलों में से एक है। विशेष सुरक्षा बल अर्थात Special Protection Group को संक्षेप में एसपीजी (SPG) में नाम से जानते है। वास्तव में, यह एक कमांडो फोर्स है, जो देश के प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए 24 घंटे तैनात रहती है। ये प्रधानमंत्री की छाया की तरह उसके साथ रहने वाली सुरक्षा एजेंसी है। प्रधानमंत्री देश के किसी हिस्से में जाएँ या विदेशी दौरों में रहे, इससे उन्हें कोई मतलब नहीं है। ये सुरक्षा एजेंसी हमेशा उनके साथ – साथ रहती है। इस प्रकार एसपीजी का कार्यक्षेत्र बहुत व्यापक होता है। प्रधानमंत्री आवास, प्रधानमंत्री कार्यालय से लेकर देश – विदेश हर वो स्थान पर यह सुरक्षा एजेंसी सक्रीय होती है जहाँ – जहाँ प्रधानमंत्री को जाना होता है या जहाँ प्रधानमंत्री होते है। एसपीजी के कमांडो सभी प्रकार के आधुनिकतम हथियारों से लैश होते है। ये किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए हर समय तैयार होते है। ये प्रधानमंत्री की 360 डिग्री की सुरक्षा प्रदान करते है। 

एसपीजी का फुल फॉर्म क्या होता है ?

इसका फुल फॉर्म ‘Special Protection Group’ होता है. और इसे हिंदी में ‘विशेष सुरक्षा बल’ कहते है.

कौन होता है इसका प्रमुख ?

एसपीजी प्रमुख का अधिकारी डायरेक्टर रैंक का एक आईपीएस अधिकारी होता है और इनका कार्यकाल सिर्फ तीन साल का होता है. Special Protection Group  कैबिनेट सचिवालय  के अंतर्गत कार्य करती है और इनका मुख्यालय प्रधानमंत्री हाउस में होता है.

संसद (Parliament) क्या है ?

एसपीजी सिक्योरिटी क्यों दी जाती है ?

एसपीजी कमांडो का गठन प्रधानमंत्री को सुरक्षा देने के लिए किया गया था। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी की हत्या के बाद यह महसूस किया गया कि भारत के प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए भी अमेरिका की सीक्रेट सर्विस के जैसी कोई आधुनिकतम एजेंसी होनी चाहिए और इसी के बाद 2 जून 1988 को एसपीजी कमांडो का गठन किया गया।

वर्तमान में एसपीजी सिक्योरिटी किसे दी जाती है ?

एसपीजी की सुरक्षा पहले प्रधानमंत्री के अलावे भूतपूर्व प्रधानमंत्रियों व उनके परिवार के सदस्यों को उपलब्ध कराई जाती थी। मगर दो वर्ष पहले एसपीजी एक्ट में संशोधन कर दिया गया है। अब एसपीजी की सुरक्षा केवल प्रधानमंत्री के लिए ही होती है। प्रधानमंत्री की सुरक्षा घेरा में कितने एसपीजी कमांडो होते है, वास्तव में यह संख्या निश्चित नहीं होती है। यह सुरक्षा की विभिन्न पहलुओं पर विचार करके इनकी संख्या में कमी या वृद्धि की जाती है। एसपीजी के बेड़े में केवल गाड़ियां ही नहीं बल्कि हवाई जहाज भी शामिल होते है और एसपीजी के कमांडो हर स्थिति के लिए तैयार रहते है।

स्पेशल प्रोटक्शन ग्रुप को कब बनाया गया था ?

स्पेशल प्रोटक्शन ग्रुप (Special Protection Group – SPG )  का गठन  2 जून 1988 को एसपीजी एक्ट के अंतर्गत किया गया था। इसके लिए मार्च 1985 में बीरबल नाथ समिति ने एक स्पेशल प्रोटेक्शन यूनिट (SPU ) के गठन की सिफारिश की थी बाद में इसका नाम स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप कर दिया गया। एसपीजी गृहमंत्रालय के अधीन होती है। एसपीजी में जवानो का चयन देशभर के विभिन्न सुरक्षा एजेंसियां BSF, CISF, ITBP, CRPF से किया जाता है। इसका मुख्यालय प्रधानमंत्री आवास परिसर में ही स्थित है।

स्पेशल प्रोटक्शन ग्रुप कमांडो की विशेषता क्या है ?

  • एसपीजी के अधिकारी न केवल भारत बल्कि विश्व के सबसे प्रोफेशनल और माहिर कमांडो में से एक होते है। एसपीजी की गिनती अमेरिका के सीक्रेट सर्विस के समान होती है।
  • एसपीजी के अधिकारी के पास FNF – 2000 असॉल्ट रायफल होती है। इसके अलावा कमांडोज के पास ग्लोक 17 पिस्टल भी होती है। सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इन्हे सार्वजनिक नहीं किया जाता है।
  • प्रधानमंत्री बुलेट प्रूफ कार में होते है। जबकि उनके साथ एक डमी कार भी चलती रहती है। प्रधानमंत्री के काफिले में एम्बुलेंस और जैमर भी होता है। इसके साथ ही कई अन्य आर्मड गाड़िया व हाईप्रोफाइल गाड़ियां ही होती है।
  • एसपीजी सुरक्षा अधिकारीयों के पास एक विशेष प्रकार का ब्रीफकेश होता है। संकट की स्थिति में यह बुलेटप्रूफ शील्ड खुल जाता है और यह सुरक्षा कवच का काम करता है।
  • एसपीजी के अधिकारी अपने साथ के अधिकारीयों से बात करने के लिए कान में ईयर प्लग लगाए होते है। एसपीजी के अधिकारीयों के जूते विशेष प्रकार के होते है जो सतह पर नहीं फिसलते है। इसके अलावे एसपीजी के अधिकारी कई अवसरों पर चश्मे लगाए होते है। ये चश्मे बुलेटप्रूफ होते है।
  • एसपीजी के कमांडोज बुलेटप्रूफ जैकेट पहने होते है जो प्रधानमंत्री की सुरक्षा देने में उनकी सहायता करता है। ये बुलेट प्रूफ जैकेट शक्तिशाली हमले को भी बड़े आसानी से झेलने में सक्षम होते है।
राष्ट्रपति की शक्तियां व कार्य

एसपीजी में भर्ती होने के लिए क्या करें ?

एसपीजी के लिए जवानो की सीधी भर्ती नहीं होती है। एसपीजी में जवानो का चयन देशभर के विभिन्न सुरक्षा एजेंसियां भारतीय पुलिस सेवा (IPS), केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF), सीमा सुरक्षा बल (BSF) और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) से किया जाता है। इसलिए इसके लिए किसी को पहले सम्बंधित विभाग को ज्यॉइन करना आवश्यक है। एसपीजी के लिए समय समय पर आवेदन निकाले जाते है, जो देशभर के विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों के कुशल जवानो के लिए ही होता है। इसमें केवल वरिष्ठ और अति कुशल अधिकारीयों का ही चयन होता है। एसपीजी के कमांडो में शामिल प्रत्येक जवान हर वर्ष बदलते रहते है। इसमें प्रत्येक कमांडो की सर्विस केवल एक वर्ष के लिए ही होता है। जबकि एसपीजी का प्रमुख पद तीन वर्ष के लिए होता है। एसपीजी के जवानो का कार्यकाल पूरा होने पर उन्हें अपनी पूर्व यूनिट में वापस भेज दिया जाता है।

उम्मीदवारों के चयन के बाद भी इन्हे वर्ल्ड क्लास ट्रेनिंग दी जाती है। इसमें प्रत्येक कमांडो को फिट, चौकस और प्रत्येक नए टेक्नोलॉजी में पारंगत किया जाता है। ट्रेनिंग के बाद भी इन्हे तीन महीनो की निगरानी में रखा जाता है और उस बीच इनकी साप्ताहिक परीक्षा भी होती रहती है। परीक्षा में एक बार असफल होने पर एक बार पुनः अवसर दिया जाता है और अगर वे पुनः असफल होते है तो उन्हें अपनी पूर्व यूनिट में वापस भेज दिया जाता है।

एसपीजी की ट्रेनिंग वर्ल्ड क्लास की होती है। एसपीजी के जवानो को वैसी ही ट्रेनिंग दी जाती है जैसी अमेरिका की सीक्रेट सर्विस की होती है। एसपीजी के कमांडो न केवल देश के सबसे कुशल कमांडो होते है बल्कि ये विश्व के सबसे आधुनिकतम, पेशेवर और कुशल कमांडो में से एक होते है। एसपीजी की गिनती अमेरिका की सीक्रेट सर्विस के समान होती है। अमेरिकी राष्ट्रपति की सुरक्षा का भार सीक्रेट सर्विस पर ही होती है।

एसपीजी कमांडो की सैलरी क्या है ?

एसपीजी देश की सबसे आधुनिकतम और पेशेवर कमांडो फोर्स में से एक है। इसके लिए चुनिंदा लोगो का ही चयन हो पाता है। इसलिए एसपीजी कमांडो की सेलेरी भी अच्छी होती है। वैसे तो इसकी पूर्ण जानकारी नहीं दी जाती है मगर एक जानकारी  के अनुसार एसपीजी की अनुमानित सैलरी लगभग 84,236 से 2,44,632 रूपये के बीच है। इसके अलावा एसपीजी के अधिकारीयों को अन्य सुविधाए और भत्ते भी दिए जाते है।

FAQ

Q : एसपीजी कमांडो का फुल फॉर्म क्या होता है?
Ans : स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (Special Protection Group)

Q : एसपीजी का सैलरी कितना है?
Ans : लगभग 84,236 से 2,44,632 रूपये के बीच

Q : एसपीजी सुरक्षा में कितने जवान होते हैं?
Ans : 24 कमांडो और FNF-2000 असॉल्ट राइफल के साथ 

Q : एस पी जी का गठन कब किया गया?
Ans : 08 अप्रैल 1985 को 

Q : एसपीजी कमांडो क्या होता है?
Ans : एसपीजी कमांडो देश की सबसे ताकतवर सुरक्षा एजेंसी है। 

यह भी पढ़े

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here