कब से शुरू होगा सावन सोमवार | Sawan Somvar 2022 In Hindi

कब से शुरू होगा सावन सोमवार, विधि, तारीख, व्रत, कथा, लाभ, महत्व, उपवास, उपाय, उद्यापन, कहानी, खाना (Sawan Somvar In Hindi, 2022, Kab Hai, Vrat, Katha, Date, Start Date, Aarti, First Somvar, Akhri (Last) Somvar, Fast Rules)

हिंदू धर्म के लोगो की सभी त्योहारो और व्रत में आस्था है. और इन्ही व्रतो में सावन के महीने को काफी अहम माना गया है. सावन (Sawan Month 2022) के महीने में भगवान शिवजी की पूजा अर्चना होती है. इसी वजह से कुछ लोग इस महीने को शिव महिना भी कहते है. सावन का महिना जल्द ही आने वाला है और भगवान भोले के भक्त यह जानने को आतुर है कि कब से शुरू होगा सावन सोमवार (Sawan Dates 2022), सावन का पहला सोमवार कब पड़ेगा,  कब होगा सावन (Sawan Somwar) का अंतिम सोमवार, और इस बार सावन में कितने सोमवार के व्रत (Sawan Somwar Vrat 2022) होंगे. इन सभी के बारे में आपको विस्तार से जानकरी देने वाले है, तो लेख अंत तक जरुर पढना.

Sawan Somwar Vrat

कब से शुरू होगा सावन सोमवार | Sawan Somvar in Hindi

कब से शुरू होगा सावन 18 जुलाई 2022 से
कब होगा सावन का अंतिम सोमवार 08 अगस्त 2022
सावन के कितने सोमवार है? 4 सोमवार

कब से शुरू होगा सावन (Sawan Somvar 2022 Dates)

साल 2022 में सावन माह का आगमन हो रहा है. हिंदू कैलेंडर के अनुसार सावन पांचवे महीना में आता है. और यह सावन महीने का मौसम भी काफी खुबसूरत है. इस पवित्र माह में भगवान शिव जी और पार्वती की पूजा अर्चना की जाती है. सावन का पहला सोमवार 18 जुलाई 2022 से शुरू होगा और सावन का अंतिम सोमवार श्रावण पूर्णिमा के साथ 08 अगस्त 2022 को होगा. इस साल सावन के 4 सोमवार के व्रत होंगे. चौथे सोमवार को सावन माह का समापन हो जायेगा.

सावन का पहला सोमवार (18 जुलाई 2022)

सावन माह का पहला सोमवार 18 जुलाई 2022 से शुरू हो रहा है. इस दिन उड़ीसा, बंगाल समेत देश के कई हिस्सों में नाग पंचमी के रूप में त्योहार मनाया जाता है. सोमवार के दिन भोले नाथ की पूजा के साथ नाग की पूजा की जाती है. दोनों की पूजा अर्चना करने से विशेष फलदायी होगा.

सावन का दूसरा सोमवार (25 जुलाई 2022)

इस बार सावन का दूसरा सोमवार 25 जुलाई 2022 को होगा. यह दिन शिव जी के भक्तो के लिए विशेष रहने वाला है क्यों कि इस दिन प्रदोष व्रत का भी संयोग बना रहेगा. यह दिन भक्तो के लिए सोने पर सुहागा वाला होगा क्यों कि दुसरे सोमवार को ध्रुव योग, अमृत सिद्धि एवं सर्वार्थ सिद्धि योग बना रहेगा.

सावन का तीसरा सोमवार (1 अगस्त 2022)

सावन का तीसरा सोमवार 1 अगस्त 2022 को होगा. इस दिन भगवान शिवजी के साथ गणेश जी भगवान की पूजा आराधना करने से मनोकामनाए पूर्ण होगी. और इनके साथ दूर्वा गणपति की भी पूजा अर्चना की जाएगी, इस दिवस पर रवि योग का संयोग सदैव बना रहेगा.

सावन का चौथा सोमवार  (8 अगस्त 2022)

सावन का चौथा और अंतिम सोमवार 8 अगस्त 2022 हो होगा. इस सोमवार को व्रत रखने वालो का साल 2022 का सावन का अंतिम व्रत होगा. क्यों कि 11 अगस्त गुरुवार के दिन सावन के महीने का समापन हो जायेगा. आपकी जानकारी के लिए बता दूँ सावन का अंतिम सोमवार एकादशी तिथि के दिन आ रहा है, जिसे हम पवित्रा एकादशी के नाम से सभी जाना जाता है. इस दिन व्रत रखने से भक्तो को भगवान शिव जी एवं विष्णु जी दोनों के व्रत का लाभ मिलेगा.

सावन में कितने सोमवार?

सावन में इस बार 4 सोमवार पड़ रहे है. क्यों कि सावन का पहला सोमवार 18 जुलाई 2022 को होगा और आखिरी सोमवार 8 अगस्त 2022 को होगा. इस हिसाब से साल 2022 में सावन के सोमवार के 4 व्रत रखे जायेगे. कुछ लोगो की आस्था सावन का पहला और अंतिम सोमवार का व्रत रखने में है. जिसको हम आसन भाषा में उठते बैठते व्रत के नाम से जानते है.

रक्षाबंधन क्यों मनाई जाती है?

सावन महीने का महत्व

सावन का पवित्र महिना भगवान शिव का है. इस महीने में भगवान शिव जी पूजा अर्चना की जाती है जिससे भगवान प्रसन्न होकर अपने भक्तो की सारी मनोकामना पूर्ण करते है. हिन्दू धर्म की मान्यता है कि सावन के माह में भगवान शिवजी को बेलपत्र भी चढ़ाये जाते है. इससे भगवान खुश होते है.

सावन महीने की पूजन विधि

सावन के माह में आने वाले सोमवार को भगवान शिव जी पूजा की जाती है और भक्तो द्वारा व्रत भी रखी जाती है. विधि विधान से भगवान की पूजा की जाती है.

  • सावन के सोमवार के दिन सुबह जल्दी उठाकर स्नान कर भगवान शिव जी पर जल और दूध चढ़ाया जाता है और इसी के साथ दूध, बेलपत्र और धतूरा भी चढ़ाया जाता है.
  • पूजा के समय तेल के दीये जलाये जाते है और भोलेनाथ को धतूरे का फुल भी अर्पित किया जाता है.
  • पूजा के दौरान शिव चालिसा या फिर शिव मंत्र का जाप करना चाहिए और शिव भगवान को पंच अमृत, सुपारी, बेलपत्र और नारियल चढ़ाएं.
  • सावन में व्रत के दौरान कथा जरुर करे.

सावन सोमवार व्रत में क्या खाएं

सावन सोमवार का महिना चल रहा है. अधिकतर लोग इन महीने में सोमवार का व्रत करते है. अब उनके दिमाग में ये बात तो जरुर आ रही होगी कि व्रत के दौरान क्या खाना चाहिए.

  • सुबह आप एक कप चाय ले सकते हो और उसके साथ मूंगफली या फिर मखाने को घी में भुनकर खा सकते हो.
  • इसके बाद आप ड्राईफ्रूट्स या फिर सूखे मेवे भी खा सकते हो इससे पुरे दिन आपको पर्याप्‍त ऊर्जा मिलती रहेगी.
  • आलू को बॉईल कर और घी में फ्राई करके भी खा सकते हो. और इसके अलावा कुट्टू के आटे और सिंघाड़े के आटे की पुडिया बनाकर खा सकते हो.
  • अधिक से अधिक मात्रा में फल का सेवन कर सकते हो, जिसमे संतरा, केला, अंगूर, मौसमी आदि.

सावन सोमवार व्रत में क्या नही खाएं

  • खाली पेट चाय का सेवन करने से बचे क्यों कि खाली पेट चाय पीने से गैस की समस्या उत्पन हो जाती है.
  • व्रत के समय तली हुई चीजों का ज्यादा सेवन न करे. इससे आपके पाचन तंत्र से जुडी समस्या बढ़ जाएगी.
  • व्रत के समय पुरे दिन भूखे न रहे अन्यथा सिरदर्द, पेट दर्द, उल्टी और थकान सी बनी रहेगी. कुछ खाए नही तो पेय प्रदार्थ में कुछ न कुछ लेते रहे.

निष्कर्ष : तो आज के इस लेख में हम आपको बताया कि कि कब से शुरू होगा सावन सोमवार (Sawan Somvar in Hindi), सावन का पहला सोमवार कब पड़ेगा, कब होगा सावन का अंतिम सोमवार, और इस बार सावन में कितने सोमवार के व्रत होंगे. इन सभी के बारे में हमने आपको विस्तार से जानकरी दी, उम्मीद करते है आपको यह जानकारी पसंद आयी होगी.

FAQ

Q :  सावन के सोमवार कब से है?
Ans :  सावन के सोमवार का आगमन 18 जुलाई को शुरू होगा और 8 अगस्त 2022 को समाप्त होग.

Q :  सावन के महीने में कितने सोमवार है?
Ans :  सावन के महीने में 4 सोमवार है?

Q :  सावन का लास्ट सोमवार कब है?
Ans :  सावन का लास्ट सोमवार 8 अगस्त 2022 को है.

Q :  सावन कब से शुरू है?
Ans :  सावन कब से 18 जुलाई से शुरू है.

Q :  श्रवण कब से शुरू होगा?
Ans : इस साल श्रवण माह 18 जुलाई को शुरू होगा और 8 अगस्त 2022 तक है.

Q :  2022 का पहला सोमवारी कब है?
Ans : 18 जुलाई को

Q :  श्रावण मास में क्या क्या न करें?
Ans : श्रावण मास के समय दूध और बैंगन के सेवन से बचे. बड़ो का अपमान ना करे. मांस मछली और शराब का सेवन से बचे. पेड़ो को न कटे और बड़े बुजुर्गो का सम्मान करे.

यह भी पढ़े

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here