पंडित भजन सोपोरी का जीवन परिचय | Pandit Bhajan Sopori Biography in Hindi

पंडित भजन सोपोरी का जीवन परिचय, संतूर वादन, संगीत, न्यूज़, मौत, निधन,  उम्र, परिवार, पत्नी, बच्चे, बेटा (Pandit Bhajan Sopori Biography In Hindi, News, Latest News, Cast, Death, Birth, Age, Passed Away, Wiki, Santoor, Instrument, Family, Wife, Son, Award, Career, Album, Legendary Musician And Santoor Player, Cardiac Arrest)

Pandit Bhajan Sopori Death News : दुनिया के मशहूर संतूर वादक पंडित भजन सोपोरी का गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल में दिनांक 02 जून 2022 को निधन हो गया। वह 74 साल के थे. बताया जाता है कि वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे और इसके चलते उनका निधन हो गया. यह खबर आते ही संगीत जगत में शौक की लहर दौड़ गई. कुछ दिनों पहले ही पंडित शिवकुमार शर्मा के निधन से शास्त्रीय संगीत को काफी क्षति हुई थी और अब एक और संतूर वादक ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया.

आज के इस लेख में हम आपको मशहूर संतूर वादक पंडित भजन सोपोरी का जीवन परिचय (Pandit Bhajan Sopori Biography in Hindi) के बारें में पूरी जानकारी देने वाले है.

Bhajan Sopori Biography

पंडित भजन सोपोरी का जीवन परिचय (Pandit Bhajan Sopori Biography in Hindi)

नाम (Name) पं. भजन सोपोरी
पूरा नाम ( Full Name) भजन लाल सोपोरी
जन्म (Date of birth) 1948
जन्म स्थान (Place) श्रीनगर, कश्मीर, भारत
उम्र (Age) 74 साल
मृत्यु की तारीख (Date of Death) 02 जून 2022
मृत्यु स्थान (Place Of Death) गुरुग्राम
मृत्यु का कारण (Death Cause) लंबी बीमारी के चलते निधन
धर्म (Religion) हिंदू धर्म
जाति (Cast) कश्मीरी पंडित
व्यवसाय  (Business) संगीतकार, म्यूजिक कंपोजर
शिक्षा (Educational Qualification) मास्टर्स डिग्री (अंग्रेजी साहित्य)
पश्चिमी शास्त्रीय संगीत
कॉलेज (College) वाशिंगटन विश्वविद्यालय
प्रसिद्धि (fame) संतूर वादक
नागरिकता(Nationality) भारतीय
राशि (Zodiac Sign) धनु राशि
भाषा(Languages) हिंदी, इंग्लिश
पता (Address) मुंबई, भारत
वैवाहिक स्थिति (Marital Status) विवाहित

कौन थे पंडित भजन सोपोरी (Who was Bhajan Sopori Sharma)

पंडित भजन सोपोरी सुप्रसिद्ध संतूर वादक थे. वर्तमान समय में संतूर वादक को इतना लोकप्रिय बनाने का श्रेय पंडित भजन सोपोरी को ही जाता है। यह सूफियाना घराना से ताल्लुक रखते है. भजन सोपोरी इकलौते संतूर वादक है जिन्होंने अरबी, संस्कृत, फारसी समेत अन्य भाषाओं में लगभग 4 हज़ार से ज्यादा गानों का म्यूजिक तैयार किया है. इनको पद्मश्री के अलावा भी कई पुरस्कारों से नवाज़ा जा चूका है और इन्हें ‘संतूर का संत’ भी कहते है.

पंडित भजन सोपोरी का जन्म और परिवार (Pandit Bhajan Sopori Birth and Family)

पंडित भजन सोपोरी का जन्म 1948 को कश्मीर घाटी के सोपोर में हुआ था। उनका पूरा नाम भजन लाल सोपोरी है. इनके पिता का नाम पंडित शंभू नाथ सोपोरी था जो जाने-माने संतूर वादक थे. काम उम्र में ही भजन सोपोरी ने संगीत सीखना शुरू कर दिया था. उनके पिताजी और दादाजी ने इन्हें गायन शैली व वादन शैली की शिक्षा दी. इनका परिवार सूफियाना घराने से सम्बन्ध रखता है. इनके परिवार के छह से ज्यादा पीढ़िया संतूर बजाया करती थी. सरल शब्दों में कहे तो पंडित भजन सोपोरी को संतूर वादक का ज्ञान विरासत में मिला है. इनके बेटे का नाम अभय रुस्तम सोपोरी है और ये भी एक संतूर वादक हैं.

पिता का नाम (Father’s Name) पंडित शंभू नाथ सोपोरी
दादाजी का नाम (Grandfather’s Name) एस सी सोपोरी
बेटे का नाम (Son’s Name) अभय रुस्तम सोपोरी

पंडित भजन सोपोरी की शिक्षा (Pandit Bhajan Sopori Education)

भजन सोपोरी की प्रारम्भिक शिक्षा कश्मीर से पूरी हुई. बड़े होने के साथ-साथ गायन शैली और वादन शैली का ज्ञान दादा एस सी सोपोरी और पिता शंभू नाथ सोपोरी ने दिया. इसके बाद उन्होंने अंग्रेजी साहित्य में मास्टर्स डिग्री हासिल की. इसके पश्चात् उन्होंने वाशिंगटन विश्वविद्यालय से पश्चिमी शास्त्रीय संगीत की पढाई पूरी की.

पंडित भजन सोपोरी का करियर ( Pandit Bhajan Sopori Career)

  • पंडित भजन सोपोरी ने अपने करियर का पहला परफॉर्म साल 1953 में किया जब इनकी उम्र सिर्फ 5 साल की थी. सोपोरी ने वाशिंगटन यूनिवर्सिटी से संगीत सीखा और वही पर छात्र को संगीत सीखते भी थे.
  • सोपोरी ने साल 1990 में ऑल इंडिया रेडियो में काम भी किया था,  उस समय कश्मीर घाटी से कोई म्यूजिक और तबला वादक नही था, इसकी पूर्ति पंडित भजन सोपोरी ने पूरी की.
  • इन्होने एक एलबम नट योग आन संतूर का निर्माण किया, इसके साथ ही इन्होने सोपोरी अकादमी फार म्यूजिक एंड परफार्मिंग आटर्स एकेडमी का शुभारम्भ किया. इसमें सिर्फ शास्त्रीय संगीत की क्लास दी जाती थी.
  • पंडित भजन सोपोरी एक ऐसे इकलौते शास्त्रीय संगीतार है जिन्होंने अरबी, संस्कृत, फारसी समेत देश की अन्य भाषाओं में लगभग 4 हज़ार से ज्यादा गानों का म्यूजिक तैयार किया है.
  • भजन सोपोरी ने 3 रागों का सृजन किया है. जिसमे राग निर्मल रंजनी, राग पटवंती एवं राग लालेश्वरी है.
  • पंडित भजन सोपोरी ने भारत की एकता और अखंडता के लिए कुछ गानों की धुनें फिर से तैयारी की. जिसमे विजयी विश्व तिरंगा प्यारा, कदम-कदम बढ़ाए जा, हम होंगे कामयाब, सरफरोशी की तमन्ना आदि है.
  • इन्होने अपने करियर में अमेरिका, इंग्लैंड, मिस्र और जर्मनी में कई परफॉर्म किये.

पंडित भजन सोपोरी को मिले अवार्ड (Pandit Bhajan Sopori Awards)

पंडित भजन सोपोरी को साल 1992 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार और साल 2004 में भारत सरकार द्वारा पद्म श्री से नवाज़ा गया है. इसके अलावा साल 2009 में बाबा अलाउद्दीन खान अवार्ड और भारतीय शास्त्रीय संगीत में अपना योगदान देने के लिए 2011 में एम. एन. माथुर पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया. इन सभी के अलावा इनको  जम्मू और कश्मीर स्टेट लाइफटाइम अचीवमेंट से भी सम्मानित किया है।

पंडित भजन सोपोरी मौत का कारण (Bhajan Sopori Death Reason)

74 साल की उम्र में पंडित भजन सोपोरी का निधन (Pandit Bhajan Sopori Passed Away) 02 जून 2022 को लंबी बीमारी के चलते हो गया है. उन्हें कुछ समय पहले गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनकी हालात दिन पे दिन बिगडती जा रही थी. डॉक्टर की टीम द्वारा पूरा प्रयास करने के बावजूद पंडित भजन सोपोरी ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया. अब हमारे बीच छोड़ गए है सिर्फ संगीत.

निष्कर्ष – आज के इस लेख में हमने आपको पंडित भजन सोपोरी का जीवन परिचय (Pandit Bhajan Sopori Biography in Hindi) के बारें में बताया. उम्मीद करते है आपको यह जानकरी पसंद आई होगी.

FAQ

Q : कौन थे पंडित भजन सोपोरी?
Ans : पंडित भजन सोपोरी भारत के मशहूर संतूर वादक थे‌।

Q : पंडित भजन सोपोरी का जन्म कब हुआ?
Ans : पंडित भजन सोपोरी का जन्म 1948 को कश्मीर में हुआ.

Q : पंडित भजन सोपोरी का जन्म कहां हुआ था?
Ans : कश्मीर घाटी के सोपोर में

Q : पंडित भजन सोपोरी का निधन कब हुआ?
Ans : 02 जून 2022 को

Q : पंडित भजन सोपोरी की मौत कैसे हुई?
Ans : लंबी बीमारी के चलते

यह भी पढ़े

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here