पंडित शिवकुमार शर्मा का जीवन परिचय | Pandit Shiv Kumar Sharma Biography in Hindi

पंडित शिवकुमार शर्मा का जीवन परिचय, संतूर वादन, संगीत, न्यूज़, मौत, निधन, कार्डियक अरेस्ट, उम्र, परिवार, पत्नी,बच्चे, बेटा (Pandit Shiv Kumar Sharma Biography in Hindi, News, Latest News, Death, Birth, Age, Passed Away, Wiki, santoor, instrument, Family, Wife, Son, Award, Career, Album, Legendary musician and santoor player, cardiac arrest)

भारत के संगीतकार और मशहूर संतूर वादक पंडित शिवकुमार शर्मा का मुंबई के एक अस्पताल में कार्डिएक अरेस्ट के कारण दिनांक 10 मई 2022 को निधन हो गया। वह 84 साल के थे. बताया जाता है कि वह 6 महीनों से किडनी संबंधी समस्याओं से जूझ रहे थे. और डायलिसिस पर थे। यह खबर आते ही संगीत जगत के साथ-साथ पुरे देश में शौक की लहर दौड़ गई. भारत के प्रधानमंत्री के साथ साथ देश के कई बड़े नेता और अभिनेता ने भी इस दुःख की घड़ी में अपनी सवेंदना वयक्त की है. आज के इस लेख में हम आपको मशहूर संतूर वादक पंडित शिवकुमार शर्मा का जीवन परिचय (Pandit Shiv Kumar Sharma Biography in Hindi) के बारें में पूरी जानकारी देने वाले है.

Pandit Shiv Kumar Sharma पंडित शिवकुमार शर्मा का जीवन परिचय (Pandit Shiv Kumar Sharma Biography in Hindi)

नाम (Name) पं. शिवकुमार शर्मा
निक नाम ( Nick Name) संतूर वादक
जन्म (Date of birth) 13 जनवरी 1938
जन्म स्थान (Place) जम्मू, भारत
उम्र (Age) 84 साल
मृत्यु की तारीख (Date of Death) 10 मई 2022
मृत्यु का कारण (Death Cause) किडनी से संबंधित बीमारी
धर्म (Religion) हिंदू धर्म
व्यवसाय  (Business) संगीतकार, म्यूजिक कंपोजर
प्रसिद्धि (fame) संतूर वादक
नागरिकता(Nationality) भारतीय
राशि (Zodiac Sign) मकर राशि
भाषा(Languages) हिंदी, इंग्लिश, मराठी
पता (Address) मुंबई, भारत
वैवाहिक स्थिति (Marital Status) विवाहित

कौन थे पंडित शिवकुमार शर्मा (Who was Pandit Shivkumar Sharma)

पंडित शिवकुमार शर्मा प्रख्यात संतूर वादक थे. आज के समय में संतूर को इतना लोकप्रिय बनाने का श्रेय इन्ही को ही जाता है। इनको कई अवार्ड भी मिल चुके है. इसके साथ ही इनका फ़िल्मी जगत में भी अहम योगदान रहा है. इनका सबसे प्रसिद्ध गाना ‘चांदनी’ फिल्म का मेरे हाथों में नौ-नौ चूड़ियां’ रहा है. पंडित शिवकुमार शर्मा और बांसुरीवादक पंडित हरिप्रसाद चौरसिया दोनों की जोड़ी को फ़िल्मी जगत में शिव-हरि के नाम से जानते है.

पंडित शिवकुमार शर्मा का जन्म और परिवार (Pandit Shivkumar Sharma Birth and Family)

पंडित शिवकुमार शर्मा का जन्म 13 जनवरी 1938 को जम्मू में हुआ था। इनके पिता का नाम पंडित उमादत्त शर्मा है जो जाने-माने सिंगर थे. सिर्फ पांच साल की उम्र में ही पंडित शिवकुमार ने संगीत सीखना शुरू कर दिया था. पिताजी से उन्होंने स्वर और तबला दोनों की ट्रेनिंग लेने शुरू कर दिया था. सिर्फ 13 साल की उम्र से संतूर सीखना में शुरू किया. पंडित शिवकुमार शर्मा ने मनोरमा शर्मा से शादी की. उनसे इनके 2 लड़के है. उनके बेटा का नाम राहुल है, जिन्होंने सिर्फ 13 साल की उम्र में ही संतूर सीखना शुरू किया था और साल 1996 से दोनों ने एक साथ परफोर्मे करना भी शुरू किया।

पिता का नाम (Father Name) पंडित उमादत्त शर्मा
माता का नाम (Mother Name)
पत्नी का नाम (shivkumar wife name) मनोरमा शर्मा
बेटे का नाम (Son Name) राहुल

पंडित शिवकुमार शर्मा का करियर ( Pandit Shivkumar Sharma Career)

पंडित शिवकुमार शर्मा ने देश में संतूर लोकप्रिय शास्त्रीय वाद्य यंत्र बनाया है इसलिए इनका पूरा श्रेय इन्हों को ही जाता है. वर्ष 1955 में मात्र 17 साल की उम्र में मुंबई में संतूर वादन का पहला शो किया. जिसके बाद संतूर की धुन लोगो को पसंद आने लगी. इसके बाद इन्होने साल 1956 में फिल्म “झनक झनक पायल बाजे” के लिए म्यूजिक कंपोज किया था. फिर साल 1960 में एक एल्बम निकाला. ये बात शायद कम ही लोग जानते है कि पंडित शिवकुमार को आरडी बर्मन के कहने पर फिल्म गाइड का लोकप्रिय गाना ‘मोसे छल किए जाए’ में तबला बजाया था और यह गाना लता मंगेशकर ने गया था.

केके का जीवन परिचय

शास्त्रीय संगीत में पंडित शिवकुमार के साथ देने आये बांसुरी वादक पंडित हरि प्रसाद चौरसिया. दोनों साथ साल 1967 में आये और अपनी जोड़ी का नाम रखा “शिव-हरि”. दोनों ने साथ एक क्लासिकल एल्बम तैयार किया जिसका नाम था ‘कॉल ऑफ द वैली’. यह एल्बम जो भारतीय शास्त्रीय संगीत के इतिहास में सबसे हिट साबित हुआ. इसके बाद शिव-हरि की जोड़ी ने साथ में कई फिल्मों के लिए काम किया.

शिव-हरि की जोड़ी को सबसे बड़ा ब्रेक मिला साल 1981 में यश चोपड़ा की फिल्म सिलसिला से. इस फिल्म में इस जोड़ी ने संगीत दिया था. इसके बाद इन्होने यश चोपड़ा की कई फिल्मो में संगीत दिया जिनमे साल 1985 में फासले, 1989 में चांदनी, 1991 में लम्हे और 1993 में डर थे. इसके अलावा भी कई फिल्मो में साथ काम किया.

पंडित शिवकुमार शर्मा को मिले अवार्ड (Pandit Shivkumar Sharma Awards)

पंडित शिवकुमार शर्मा को भारत सरकार द्वारा 1991 में पद्म श्री और 2001 में पद्म विभूषण से नवाज़ा गया है. इसके साथ ही 1985 में संयुक्त राज्य बाल्टीमोर की मानद नागरिकता प्रदान और 1986 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया है।

अवार्ड फिल्म के संगीत के लिए
प्लेटिनम डिस्क द कॉल ऑफ द वैली
प्लेटिनम डिस्क सिलसिला
गोल्ड डिस्क फासले
प्लेटिनम डिस्क चांदनी

पंडित शिवकुमार शर्मा मौत का कारण (Shivkumar Sharma Death Reason)

पंडित शिवकुमार शर्मा का निधन 10 मई 2022 को 84 साल की उम्र में कार्डियक अरेस्ट की वजह से गई।

निष्कर्ष – आज के इस लेख में हमने आपको पंडित शिवकुमार शर्मा का जीवन परिचय (Pandit Shiv Kumar Sharma Biography in Hindi) के बारें में बताया. उम्मीद करते है आपको यह जानकरी पसंद आई होगी.

FAQ

Q : कौन थे पंडित शिवकुमार शर्मा?
Ans : पंडित शिवकुमार शर्मा भारत के मशहूर संगीतकार और संतूर वादक थे‌।

Q : पंडित शिवकुमार शर्मा का जन्म कब हुआ?
Ans : पंडित शिवकुमार शर्मा का जन्म 13 जनवरी 1938 को जम्मू में हुआ.

Q : पंडित शिवकुमार शर्मा का जन्म कहां हुआ था?
Ans : जम्मू में

Q : पंडित शिवकुमार शर्मा का निधन कब हुआ?
Ans : 10  मई 2022

Q : पंडित शिवकुमार शर्मा की मौत कैसे हुई?
Ans : कार्डियक अरेस्ट की वजह से

यह भी पढ़े

 

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here