आचार्य धर्मेंद्र का जीवन परिचय | Acharya Dharmendra Biography In Hindi

आचार्य धर्मेंद्र का जीवन परिचय, कौन है, ओजस्वी वाणी, रामानंदी संत, निधन, राशिफल, महाराज, आयु, जन्मदिन, घर, परिवार, धर्म, करियर, शिक्षा, विवाह, संपत्ति,  नेटवर्थ (Acharya Dharmendra Biography In Hindi, Hindu Leader, Maharaj, Rashifal, News, Death, Passes Away,  Cast,  House, Age, Birthday, Family, Child, Marriage, Net Worth, Jaipur)

Acharya Dharmendra Died – हिंदू नेता संत आचार्य धर्मेंद्र का जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल में 80 साल की उम्र में निधन हो गया. जानकारी के मुताबिक वह कई दिनों से अस्पताल के आईसीयू में भर्ती थे और उन्हें आंतों से संबंधित बीमारी थी. 19 सितम्बर 2022 की सुबह देवलोकगमन हो गए. इनका अंतिम क्रिया राजस्थान के विराटनगर में मठ में पुरे पुरे विधी-विधान के साथ किया गया. तो आज के इस लेख में हम आपको आचार्य धर्मेंद्र का जीवन परिचय (Acharya Dharmendra Biography) In Hindi के बारे में पूरी जानकरी देने वाले है.

Acharya Dharmendra Died

आचार्य धर्मेंद्र का जीवन परिचय | Acharya Dharmendra Biography In Hindi

नाम (Name) आचार्य धर्मेंद्र (Acharya Dharmendra)
पूरा नाम (Full Name) रामानंदी संत आचार्य धर्मेंद्र
जन्म तारीख (Date Of Birth) 9 जनवरी 1942
जन्म स्थान (Place) मालवाडा, गुजरात
उम्र (Age) 80  साल (मृत्यु तक)
मृत्यु की तारीख (Date of Death) 19 सितम्बर 2022
मृत्यु स्थान (Place Of Death) सवाई मानसिंह अस्पताल, जयपुर
मृत्यु का कारण (Death Cause) आंतों से संबंधित बीमारी
मठ (Monastery) विराटनगर, राजस्थान
धर्म (Religion) हिन्दू
पेशा (Profession) मार्गदर्शक और आंदोलनकारी
भूमिका (Role) श्रीराम मंदिर आंदोलन में भूमिका,
गायों की हत्या से जुड़े आंदोलन में भूमिका
नागरिकता (Nationality) भारतीय
राशि (Zodiac Sign) धनु
भाषा (Languages) हिंदी, संस्कृत
वैवाहिक स्थिति (Marital Status) विवाहित

कौन थे आचार्य धर्मेंद्र (Who was Acharya Dharmendra)

गुजरात के मालवाडा में जन्मे आचार्य स्वामी धर्मेंद्र महाराज जयपुर के पास विराट नगर में श्रीपंचखंड पीठ के मठ में साधू संतों के साथ रहकर साधना करते थे. विश्व हिंदू परिषद से जुड़े रहे जिसके चलते प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लगातार संपर्क में रहे. बीजेपी और कॉग्रेस के दिग्गज नेताओ के करीबी माने जाते है. इन्होने अपना पूरा जीवन हिंदुत्व की रक्षा के लिए लगा दिया. श्रीराम मंदिर आंदोलन से जुड़े रहे और इस मुद्दे पर खुलकर अपनी बात रखते थे. गायों की हत्या और गोरक्षा आंदोलन की अनुवाई की और इनके अलावा कई जनजागरण यात्राओं का अहम हिस्सा रहे.

आचार्य धर्मेंद्र का जन्म और परिवार (Acharya Dharmendra Birth And Family)

आचार्य धर्मेंद्र का जन्म गुजरात के मालवाडा में 9 जनवरी 1942 को महात्मा रामचन्द्र वीर महाराज के घर हुआ. इन पर इनके पिता के व्यक्तित्व और आदर्श का प्रभाव पड़ा. आचार्य धर्मेंद्र के दो पुत्र है प्रणवेन्द्र शर्मा और सोमेन्द्र शर्मा. सोमेन्द्र की धर्मपत्नी अर्चना शर्मा वर्तमान समय में राजस्थान सरकार में सोशल वेलफेयर बोर्ड की प्रेसिडेंट हैं.

पिता का नाम (Father) महात्मा रामचन्द्र वीर महाराज
बेटों का नाम (Son) प्रणवेन्द्र शर्मा, सोमेन्द्र शर्मा
बहु का नाम (Daughter-In-Law) अर्चना शर्मा

आचार्य धर्मेंद्र की जीवन यात्रा (Acharya Dharmendra Life Journey)

  • आचार्य धर्मेंद्र ने सिर्फ 13 साल की उम्र में एक समाचारपत्र निकाली जिसका नाम वज्रांग था. साल 1966 के गोरक्षा आंदोलन में मुख्य भूमिका निभाई थी.
  • कई सालों तक विश्व हिंदू परिषद से जुड़े रहे और सीधा प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी से सम्पर्क था. राजस्थान सहित देश के कई बड़े बीजेपी के नेता के साथ जुड़े हुए थे. इतना ही नही कॉग्रेस के नेता भी इनके सम्पर्क में थे.
  • श्री पंचखंड पीठाधीश्वर धर्मेंद्र महाराज सनातन धर्म के एक अद्वितीय दुभाषिया,  मजबूत वक्ता और वाक्पटु भाषण के संत थे.
  • विश्व हिंदी परिषद के सेंट्रल गाइडेंस बोर्ड का हिस्सा रहे. और अपना पूरा जीवन हिंदी, हिंदुत्व और हिंदुस्तान के उत्थान के लिए समर्पित रहा. महात्मा गांधी जी पर विवादास्पद टिप्पणी देने के बाद सुर्खियों में आये थे.
  • श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन का अहम हिस्सा थे और बड़े-बड़े चेहरों में एक ये भी थे. राम मंदिर मुद्दे पर खुलकर अपनी बात रखते थे और जिस समय बाबरी विध्वंस का फैसला सुनाया जाना था तब इन्होने कहा था कि सच से डरना क्या जो भी होगा फैसला हमें मंजूर होगा. मैं हूँ आरोपी नंबर 1. और इनके बयान के बाद जब फैसला सुनाया गया तो इन्होने खुशी दिखाते हुए कहा कि सच की जीत हुई. लेकिन बाबरी विध्वंस मामले में कल्याण सिंह, लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती के साथ इन्हें भी आरोपी माना गया था.
  • आचार्य धर्मेंद्र ने अपना पूरा जीवन भारत माँ की सेवा और हिंदुत्व की रक्षा करने में लगा दिया. कई आंदोलनों और सत्याग्रह का हिस्सा रहे और जेल भी गए. गायों की हत्या आंदोलन से जुड़े और अनुवाई की.

आचार्य धर्मेंद्र का निधन (Acharya Dharmendra Death)

आचार्य धर्मेंद्र कई दिनों से जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल के मेडिकल आईसीयू में एडमिट थे. जहा पर लगातार उनका इलाज किया जा रहा था. बताया जाता है कि वह आंतों से संबंधित बीमारी से पीड़ित थे. और 19 सितम्बर 2022 की सुबह 80 साल की उम्र में देवलोकगमन हो गए.

इनके स्वस्थ संबंधित जानकारी लोकसभा स्पीकर ओम बिरला और बीजेपी राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया ने ली. सतीश पुनिया खुद इनसे मिलने अस्पताल भी गए थे.

उनके निधन पर राजस्थान के नेताओं और हिंदू संगठन से जुड़े कई लोगों ने शोक जताया है. इनका अंतिम संस्कार राजस्थान के विराटनगर स्थित मठ पावनधाम आश्रम में पुरे विधी-विधान से किया गया और इस बीच इनके परिवारजन और शिष्य मौजूद रहे.

निष्कर्ष :- तो आज के इस लेख में हमने आपको बताया आचार्य धर्मेंद्र का जीवन परिचय (Acharya Dharmendra Biography In Hindi)  के बारे में. उम्मीद करते है आपको यह जानकरी जरुर पसंद आई होगी.

FAQ

Q : आचार्य धर्मेंद्र कौन है?
Ans : साधू संत और आन्दोलनकारी

Q : आचार्य धर्मेंद्र का निधन कैसे हुई?
Ans : आंतों से संबंधित बीमारी के चलते

Q : आचार्य धर्मेंद्र का निधन कब हुआ
Ans : 19 सितम्बर 2022 को

यह भी पढ़े

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here