एपीजे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय | APJ Abdul Kalam Biography in Hindi

Rate this post

एपीजे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय, पूरा नाम, विचार, के बारे में, जन्मदिन, अवार्ड, इतिहास, एजुकेशन,   (APJ Abdul Kalam Biography in Hindi, age, quotes, Pura Naam, achievements, awards, books, full name, wife, anniversary, childhood, college, cast, death date, dream quotes, death reason, early life)

एपीजे अब्दुल कलाम भारत के ग्यारहवें राष्ट्रपति रह चुके है लेकिन ऐसे राष्ट्रपति थे जिनका राजनीतिज्ञ से कोई लेना देना नही था. कलाम साहब की छवि राजनेता से ज्यादा तो एक वैज्ञानिक के तौर पर रही है और इन्हें विज्ञान क्षेत्र में दिए अनेक योगदान की वजह से जाना जाता है और इसलिए हम इन्हें  मिसाइल मेन  के नाम से भी जानते है. अब्दुल कलाम साहब 2002 से 2007 तक भारत के राष्ट्रपति भी रह चुके है. तो चलिए आज के इस लेख में हम एपीजे अब्दुल कलाम साहब की जिंदगी के बारे में जानते है और ये भी जानते है कि भारत के लिए उनका कितना योगदान रहा है.

एपीजे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय | APJ Abdul Kalam Biography in Hindi

नाम ए पी जे अब्दुल कलाम
पूरा नाम अवुल पाकिर जैनुल्लाब्दीन अब्दुल कलाम
निक नेम मिसाइल मैन
जन्म तारीख 15 अक्टूबर, 1931
उम्र 85 साल
जन्म स्थान धनुषकोडी, रामेश्वरम, तमिलनाडु
म्रत्यु तारीख 27 जुलाई 2015
म्रत्यु स्थान शिलांग, मेघालय, भारत
राष्ट्रपति कार्यकाल 2002 से 2007 तक
माता-पिता असिंमा , जैनुलाब्दीन
शिक्षा भौतिकी में स्नातक
एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में डिग्री
स्कूल / कॉलेज Schwartz Higher Secondary स्कूल, रामनाथपुरम, तमिलनाडु
सेंट जोसेफ कॉलेज, तिरुचिरापल्ली, तमिलनाडु,
मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, क्रोमपेट, चेन्नई, तमिलनाडु
नागरिकता भारतीय
शौक किताबें पढना, लिखना, वीणा वादन
वैवाहिक स्थिति अविवाहित
धर्म इस्लाम

 

एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म, प्रारंभिक जीवन और  शिक्षा (Apj Abdul Kalam Early life and education)

कलाम साहब का जन्म 15 अक्टूबर, 1931 को धनुषकोडी गाँव ,तमिलनाडु एक मुस्लिम परिवार में हुआ. कलाम साहब के पिता का नाम जैनुलाब्दीन मराकायर था और वो भी खुद ज्यादा पढ़े लिखे नही थे. कलाम साहब का पूरा नाम डॉक्टर अवुल पाकिर जैनुल्लाब्दीन अब्दुल कलाम है जो तमिल मुसलमान से ताल्लुक रखते थे. उनके घर की माली हालत ठीक ठाक थी उनके पिता नाव मछुआरों को किराये पर देते थे और एक स्थानीय मस्जिद के इमाम थे. उनकी माता का नाम अशिअम्मा जैनुलाब्दीन था, जो गृहिणी थीं. कलाम साहब पांच भाई बहन में से सबसे छोटे बेटे थे. कलाम साहब चार भाई और एक बहन थी. कलाम साहब को अपने बालक अवस्था में अपनी शिक्षा के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा. वे कुछ पैसो के लिए घर घर जाकर अखबार बाटते थे जिन पैसों से वो अपनी स्कूल की फीस चुकाते थे. itne इतने कम संसाधन होने के बावजूद भी कलाम साहब के उस समय के जीवन में और आने वाले समय पर काफी गहरा प्रभाव था.

कलाम साहब की आरंभिक शिक्षा रामेश्वरम में ही स्थिति सरकारी स्कूल से और रामेश्वरम एलेमेंट्री स्कूल में हुई. इसके बाद कलाम साहब ग्रेजुएशन की पढ़ाई St. Joseph’s College, तिरुचिरापल्ली से पूरी की और 1954 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलजी से एरोनिटिकल इंजीनियरिंग में डिग्री प्राप्त की।

एपीजे अब्दुल कलाम का करियर (APJ Abdul Kalam career)

1960 में ग्रेजुएशन करने के बाद कलाम साहब रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन के साथ वैज्ञानिक के रूप में काम करने लगे. उन्होंने अपने करियर की शुरुवात में एक छोटा सा होवरक्राफ्ट डिजाईन किया. 1962 में कलाम साहब ने रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) को छोड़ भारत के भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन(ISRO)   में कार्य करने लगे. इसके साथ ही कलाम साहब INCOSPAR यानी इंडियन नेशनल कमेटी फॉर स्पेस रिसर्च में विक्रम साराभाई के अधीन काम किया. कलाम साहब के नेतृत्व में 1980 में रोहिणी उपग्रह को पृथ्वी के निकट कक्षा में सफलतापूर्वक तैनात किया था. कलाम साहब 1969 में ISRO में भारत के पहले SLV-III (Rohini) प्रोजेक्ट के स्वतंत्र रूप से हेड बने. ISRO को अंतराष्ट्रीय स्तर पर ले जाने का श्रेय कलाम साहब को ही जाता है.

1982 में वे फिर से DRDO के Director  बन गए. कलाम साहब ने लक्ष्य भेदी (गाइडेड मिसाइल्स) को डिजाइन किया जिसके बाद इन्हें मिसाईल मैन के नाम से जाने जाना लगा. कलाम साहब द्वारा ब्रह्मोस, पृथ्वी , अग्नि, त्रिशूल, आकाश, नाग जैसी मिसाईल बनाया था.  भारत सरकार के मुख्य वैज्ञानिकों की लिस्ट में कलाम साहब का नाम शामिल है. कलाम साहब को सन 1997 में विज्ञान एवं भारतीय रक्षा के क्षेत्र में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया.

कलाम साहब 1992 -1999 तक तत्कालीन प्रधानमंत्री के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार और रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन के सचिव के रूप में काम भी किया. और 1998 में दूसरा परमाणु परीक्षण पोखरण में कलाम साहब की देखरेख में किया गया.

एपीजे अब्दुल कलाम  का राष्ट्रपति सफ़र (APJ Abdul Kalam President Life)

राजनैतिक जीवन की बात करें तो वर्ष 2002 में एन.डी.ए. ने कलाम साहब को राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार बनाया था जिसका समाजवादी पार्टी और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी दोनों ने इनका समर्थन किया. 18 जुलाई 2002 को कलाम साहब को 90 % बहुमत के साथ देश के 11व़े  राष्ट्रपति के तौर पर चुना गया और कलाम साहब ने 25 जुलाई 2002 को शपथ ली. हालाँकि कलाम साहब कभी भी राजनीतिक से नही जुड़े थे लेकिन राष्ट्रपति बनने के बाद उनकी देश के राष्ट्रवादी सोच और नीतियों पर इनके विचारों के कारण आप इन्हें राजनीतिक दृष्टि से सम्पन्न मान सकते है.

एपीजे अब्दुल कलाम की पुस्तकें (APJ Abdul Kalam books )

  • इंडिया 2020 – अ विजन फॉर द न्यू मिलेनियम
  • विंग्स ऑफ फायर- ऑटोबायोग्राफी
  • इग्नाइटेड माइंड्स – अनलीशिंग द पॉवर विदिन इंडिया
  • मिशन इंडिया
  • इंडोमिटेबल स्पिरिंट
  • ए मेनिफेस्टो फॉर चेंज
  • माय जर्नी
  • एडवांटेज इंडिया
  • यू आर बोर्न टू ब्लॉसम
  • दी लुमीनस स्पार्क
  • रेइगनिटेड

डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पुरस्कार एवं सम्मान

अवार्ड मिलने का साल अवार्ड का नाम
1981 पद्म भूषण
1990 पद्म विभूषण
1997 भारत रत्न
1997 इंदिरा गाँधी नेशनलअवार्ड
1998 वीर सावरकर अवार्ड
2007 किंग चार्ल्स 2 मैडल
2011 IEEE होनोअरी मेम्बरशिप
2013   वॉन ब्रौन अवार्ड

एपीजे अब्दुल कलाम की म्रत्यु (A.P.J. Abdul kalam death) 

27 जुलाई 2015 की शाम को जब कलाम साहब IIM शिलॉंग में लेक्चर दे रहे थे उसी दौरान उनकी तबियत ख़राब हो गई और बेहोश होकर निचे गिर गए थे जिसके बाद उन्हें शिलॉंग के बेथानी अस्पताल के ICU में गंभीर हालत में एडमिट किया गया. जहां पर डॉक्टर की काफी कोशिश के बाद कलाम साहब को बचाया नही जा सकता और 84 साल की उम्र में उन्होंने दुनियाँ को अलविदा कह दिया .

30 जुलाई 2015 को पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को राजकीय सम्मान के साथ उनके पैत्रक गाँव रामेश्वरम के पी करूम्बु ग्राउंड में मुस्लिम रीति रिवाज से अंतिम संस्कार हुआ. अंतिम संस्कार में तक़रीबन 3 लाख से ज्यादा लोगो थे.

एपीजे अब्दुल कलामके बारे में रोचक बातें

  • कलाम साहब से प्रेरित होकर  I AM Kalam  फिल्म बनी.
  • स्विट्जरलैंड ने कलाम साहब की यात्रा के सम्मान में 26 मई को साइंस डे के रूप में घोषित किया है क्योकि एपीजे अब्दुल कलाम 26 मई 2006 में स्विट्जरलैंड की यात्रा की थी.
  • बोटैनिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया के वैज्ञानिकों ने कलाम साहब के सम्मान में एक नई पाई गई पौधों की प्रजाति का नाम ड्रायपेट्स कलामी रखा है.
  • वर्ष 2015 में दिल्ली की औरंगजेब रोड का नाम बदलकर डॉ एपीजे अब्दुल कलाम रोड कर दिया गया.
  • वर्ष 2015 में ओडिशा में एक नेशनल मिसाइल टेस्ट का नाम बदलकर अब्दुल कलाम द्वीप कर दिया गया.
  • एपीजे अब्दुल कलाम के के नाम पर एक स्कूल, तीन इंस्टिट्यूट, चार कॉलेज और तीन यूनिवर्सिटी है.
  • हिमाचल प्रदेश में बड़ा शिगरी ग्लेशियर के पास एक 6,180 मीटर ऊंची चोटी का नाम कलाम पर्वत रखा गया है.
  • बंगाल की खाड़ी में ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के नाम पर एक द्वीप है.

FAQ

Q : ए पी जे अब्दुल कलाम का जन्म कब हुआ ?
Ans :15 अक्टूबर1931

Q : अब्दुल कलाम का पूरा नाम क्या है ?
Ans : अबुल पाकिर जैनुलआबिदीन अब्दुल कलाम

Q : डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम का जन्म कहाँ हुआ?
Ans : रामेश्वरम शहर

Q : एपीजे अब्दुल कलाम भारत के राष्ट्रपति कब बने?
Ans :18 जुलाई 2002

Q : ए पी जे अब्दुल कलाम की मृत्यु कब हुई थी?
Ans : 27 जुलाई 2015

यह भी पढ़े

Previous articleदुनिया की सबसे अजीब इमारत | World’s Most Unique Buildings | Wonder Facts Hindi
Next articleई श्रमिक कार्ड कैसे बनाएं | How To Online Apply E Shram Card 2023 In Hindi
Founder of Wonder Facts Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here