अन्ना मणि का जीवन परिचय | Anna Mani Biography In Hindi

अन्ना मणि का जीवन परिचय, बायोग्राफी, जीवनी, कौन है, आयु, निधन, जन्मदिन, घर, परिवार, बच्चे, पति, करियर, शिक्षा, विवाह, (Anna Mani Biography In Hindi, Profile, Kaun Hai, Google Doodle, Indian Physicist, Scientist,  Meteorologist, Age, Birthday, Family, Child, Husband, Marriage, Education Qualification, Award, Quotes, Inventions, Death, Story)

Google ने 23 अगस्त 2022 को गूगल डूडल के साथ भारतीय मौसम विज्ञानी अन्ना मणि का जन्मदिन (Google Doodle Celebrates Anna Mani’s Birthday) मनाया. आज उनका 104वां जन्मदिन है. मौसम का अवलोक करने वाले डिवाइस को बनाने में अन्ना मणि का अहम योगदान रहा है. जो भारत के मौसम के पुर्वानुमान लगाने में मुख्य भूमिका निभाता है.

तो आज के इस लेख में हम आपको भारतीय भौतिक और मौसम विज्ञानी अन्ना मणि  का जीवन परिचय (Anna Mani Biography In Hindi) के बारे में पूरी जानकरी देने वाले है.

Anna Mani Biography In Hindi

अन्ना मणि  का जीवन परिचय | Anna Mani Biography In Hindi

नाम (Name) अन्ना मणि  (Anna Mani)
जन्म तारीख (Date Of Birth) 23 अगस्त  1918
जन्मदिन (Anna Mani’s Birthday) 23 अगस्त
जन्म स्थान (Place) पीरमाडे , केरल
उम्र (Age) 82 साल (मृत्यु के समय)
मृत्यु की तारीख (Date of Death) 16 अगस्त 2001
मृत्यु स्थान (Place Of Death) तिरुवनंतपुरम, केरल
मृत्यु की वजह  (Reason Of Death) स्ट्रोक से पीड़ित
शिक्षा (Education ) भौतिक और रसायन विज्ञान में ग्रेजुएशन
कॉलेज (Collage ) पचैयप्पा कॉलेज, चेन्नई
भारतीय विज्ञान संस्थान, बैंगलोर
इंपीरियल कॉलेज, लंदन
व्यवसाय  (Business) भौतिक विज्ञानी और मौसम विज्ञानी
प्रसिद्दी (famous) मौसम का पुर्वानुमान लगाने वाली तकनीकी में योगदान
वैवाहिक स्थिति (Marital Status ) अवैवाहिक
नागरिकता (Citizenship) भारतीय

 

कौन थी अन्ना मणि  (Who was Anna Mani)

अन्ना मणि भारतीय भौतिक विज्ञानी और मौसम विज्ञानी थी. इन्हें “भारत की मौसम लेडी” के नाम से भी जाना जाता है. इन्ही की कड़ी मेहनत और प्रयास से ही मौसम का पूर्व अनुमान लगाना संभव हुआ है. लंदन के इंपीरियल कॉलेज से भौतिक विज्ञानी की पढाई की. वहा रहते हुए इन्होने मौसम सम्बंधित डिवाइस के बारे में जानकारी हासिल की. भारत आने के बाद मौसम विभाग में नौकरी की और साल 1969 में भारतीय मौसम विभाग में डिप्टी डायरेक्टर के पद पर कार्यभार संभाला.

अन्ना मणि  का जन्म और शिक्षा (Anna Mani Birth and Education Qualification)

अन्ना मणि  का जन्म एक ईसाई परिवार में 23 अगस्त 1918 को केरल राज्य के पीरमाडे में हुआ. अन्ना आठ भाई बहन थे और पापा सिविल सिविल इंजीनियर थे. बचपन से ही जिज्ञासु छात्र थी. वैकोम सत्याग्रह के दौरान गांधी की जीवनशैली से प्रेरित होकर गांधीवादी मूल्यों को अपने जीवन में उतारा. खादी वस्त्र धारण करने शुरू किये.

बचपन से ही किताबे पढने का शौक था. सिर्फ 8 वर्ष की उम्र में पब्लिक लाइब्रेरी में से मलयालम भाषा और 12 साल की उम्र तक इंग्लिश की सभी बुक पढ़कर पूरी कर चुकी थी.

अन्ना मणि  ने साल 1939 में पचैयप्पा कॉलेज, चेन्नई (मद्रास) से भौतिक और रसायन विज्ञान में ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त की. इसके बाद साल 1940 में बैंगलोर के इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस में रिसर्च के लिए स्कॉलरशिप प्राप्त हुई. और साल 1945 में भौतिकी की आगे की स्टडी के लिए लंदन के इंपीरियल कॉलेज में एडमिशन लिया वहा से मौसम संबंधी डिवाइस के बारे में जानकारी हासिल की. इन्होने मौसम विभाग डिवाइस के बारे में कई रिसर्च पेपर भी लिखे है.

अन्ना मणि  का करियर (Anna Mani Career)

  • चेन्नई  के पचैयप्पा कॉलेज से ग्रेजुएशन करने के बाद इन्होने महान वैज्ञानिक चंद्रशेखर वेंकट रामन के अधीन रहकर काम किया. और डायमंड्स और रूबी के ऑप्टिकल गुणों पर रिसर्च किया.
  • अन्ना मणि  ने पीएचडी की डिग्री के लिए 5 रिसर्च पेपर सबमिट किये इसके बावजूद भी इन्हें पीएचडी की डिग्री प्राप्त नही हुई क्यों कि इन्होने फिजिक्स में मास्टर डिग्री नही की थी.
  • साल 1948 में लंदन से भारत लौटने के बाद पुणे के मौसम विभाग में नौकरी की. उसी दौरान इन्होने मौसम का पूर्वानुमान लगाने वाली उपकरणों पर कई रिसर्च पेपर पब्लिश किये.
  • अन्ना मणि  ब्रिटेन से इम्पोर्ट करवाए हुए मौसम संबंधी उपकरणों की जिम्मेदारी संभालती थी. साल 1953 में अन्ना मौसम विभाग की हेड थी इनके अधीन 121 कर्मचारी काम करते थे.
  • अन्ना मणि  का सोचना था कि वह भारत को मौसम उपकरणों के मामले में भारत को स्वतंत्र बनाना चाहती थी. इन्होने साल 1957 से लेकर 58 तक तक़रीबन 100 मौसम उपकरणों का डिजाईन तैयार किया.
  • अन्ना ने सोलर रेडिएशन को मापने के लिए एक नेटवर्क स्टेशन का निर्माण किया. बैंगलोर में  इन्होने एक छोटा सा वर्कशॉप की स्थापना की जो हवा की स्पीड और सोलर एनर्जी को मापने का काम करता था.
  • इसके अलावा अन्ना ने ओजोन को मापने की एक डिवाइस को बनाने में अपना योगदान दिया. जिस लिए इन्हें इंटरनेशनल ओजोन एसोसिएशन का मेंबर बनाया गया.
  • अन्ना मणि ने थुम्बा रॉकेट लॉन्चिंग फैसिलिटी में एक मापयंत्रण टॉवर और मेट्रोलॉजिकल ऑब्जर्वेटरी की स्थापित किया.
  • अपने काम के प्रति इतनी ज्यादा समर्पित थी कि अन्ना मणि ने कभी शादी के बारे में नही सोचा.
  • अन्ना मणि भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, अंतर्राष्ट्रीय सौर ऊर्जा सोसायटी, अमेरिकी मौसम विज्ञान सोसायटी, विश्व मौसम विज्ञान संगठन, मौसम विज्ञान और वायुमंडलीय भौतिकी के लिए अंतर्राष्ट्रीय संघ जैसे कई वैज्ञानिक संगठनों से जुड़ी थी.
  • साल 1969 तक मौसम विभाग में डिप्टी डायरेक्टर के पद पर थी इसके बाद दिल्ली ट्रांसफर हो गया. साल 1975 में इजिप्ट के विश्व मौसम विज्ञान संगठन में सलाहकार के रूप में कार्य किया.
  • साल 1976 में अन्ना मणि भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के डिप्टी डायरेक्टर के पद से रिटायर्ड हुई.
  • साल 1987 में  अन्ना मणि को इंसा के. आर. रामनाथन मैडल से नवाज़ा गया था.

अन्ना मणि का निधन (Anna Mani Death)

साल 1994 में अन्ना को स्ट्रोक आया एवं 16 अगस्त 2001 को उनके जन्मदिन से एक वीक पहले तिरुवनंतपुरम में इन्होने इस दुनिया को अलविदा कह दिया.

अन्ना मणि  का गूगल डूडल (Google Doodle Celebrates Anna Mani’s Birthday)

23 अगस्त 2022 को Google Doodle ने अन्ना मणि के 104वें जन्मदिन पर गूगल सर्च इंजन ने खास तरीके से उन्हें याद किया है.

Google Doodle Celebrates Anna Mani's Birthday

निष्कर्ष :- तो आज के इस लेख में हमने आपको भारतीय भौतिक और मौसम विज्ञानी अन्ना मणि  का जीवन परिचय (Anna Mani Biography in Hindi) के बारे में. उम्मीद करते है आपको यह जानकरी पसंद आई होगी.

FAQ

Q : अन्ना मणि  कौन है?
Ans : भारतीय भौतिक और मौसम विज्ञानी

Q : अन्ना मणि  ने किसकी रचना की?
Ans : मौसम का अवलोक करने वाले उपकरण की

इन्हे भी पढ़े

 

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here