Google Kya hai in Hindi | Google Kamai Kaise Karta Hai?

नमस्कार दोस्तों, वर्तमान में गूगल का नाम हम काफी सुनते है। गूगल एक जानामाना search engine है। इस search engine के माध्यम से आप दुनिया में उपस्थित कोई भी चीज ढूंढ सकते हो। हमारे इस लेख में हम आपको Google Kya hai इसके बारे में बताएँगे और यह कैसे काम करते है। इसके अलावा इसमें यह भी बताया जाएगा कि गूगल (Google) की खोज किसने की ?

Google-Kya-hai

गूगल क्या है ? 

गूगल वर्तमान में एक जानामाना search engine है। इस वेबसाइट के माध्यम आप किसी भी जानकारी को ढूंढ सकते है। वैसे इसके अलावा Google की और भी कई विशेषताएं है जो इस वेबसाइट को दुनिया की सबसे टॉप वेबसाइट बनाती है। हमें अगर इंटरनेट पर कुछ भी सर्च करना होता है तो हम सबसे पहले इसी Google की वेबसाइट पर आते है और अपनी क्वेरी सर्च करते है। सर्च करने के बाद हमे यह Google कुछ वेबसाइट की लिस्ट दिखाता है जिसमे हमारे द्वारा चाही गई क्वेरी के बारे में जानकारी होती है। 

कैसे चुना गया Google नाम?

हम अक्सर Google का इस्तेमाल करते है। यह नाम सुनने में इतना आसान लगता है जैसे की यह हमारे जीवन से पहले से जुड़ा हो। क्या आपको पता है Google नाम कैसे आया या फिर हम कहे तो Google को Google क्यों कहा जाने लगा ? दरसल इस कंपनी का पुराना नाम बेकरब था। 

इस नाम का इतिहास 1920 का है जब अमेरिका के एक महान गणितज्ञ Edward Kasner ने अपने भांजे Milton Sirotta को गणित के किसी ऐसे नाम के बारे में बताने को कहा जिसमे 1, 00 हो यानी जिसमे दो जीरो आते हो। तो Sirotta ने इस नाम में Googol का नाम सुझाया था। 

Sirotta के सुझाने पर उसके मामा Kasner ने इसी नाम को चुना जो Googol था। उसके बाद यह नाम 1940 में शब्दकोश में आ गया। इसके बाद जब 1998 में Google कंपनी की शुरुआत हुई तो इस कंपनी के फाउंडर Sergey Brin और Larry Page ने सोचा की क्यों न इसी Googol नाम को लिया जाए और इस नाम में कुछ बदलाव किया जाए। 

इसके बाद फिर Googol को बदलकर Google किया गया और उसको इस कंपनी के नाम के तौर पर इस्तेमाल किया जाने लगा। वर्तमान में हम इस Google को दुनिया की सबसे बड़ी तकनीक कम्पनी के रूप में जानते है। 

गूगल का इतिहास खोज किसने की?

Google का इतिहास पढ़े तो हमे इस कंपनी के बारे में कई जानकारी और कई उतार चढाव देखने को मिलते है। Google कंपनी की खोज अमेरिका के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में पी.एच.डी कर रहे दो छात्रों लैरी पेज और सर्गी ब्रिन ने की थी। गूगल कंपनी की शुरुआत 1998 में एक गैराज से की गई थी जिसके बाद यह कंपनी वर्तमान में दुनिया की सबसे बड़ी दिग्गज कंपनी में से एक बन गई है। 

Google कंपनी की शुरुआत भले ही 1998 में हुई थी परन्तु इस कंपनी ने मुख्य रूप से अपना काम 2004 में शुरू किया था। 2004 में 19 अगस्त को ही Google के दोनों फाउंडर लैरी पेज और सर्गी ब्रिन दोनों ने मिलकर काम करने के लिए 20 साल तक का कॉन्ट्रैक्ट यानी 2024 तक किया था। 

आखिर कौन है गूगल का मालिक?

अगर हम बाते करे गूगल के मालिक की तो हम जानते है की इस Google कंपनी की शुरुआत 1998 में लैरी पेज और सेर्गिन ब्रिन द्वारा की गई थी। किसी भी कंपनी पर मालिकाना हक उन सभी निवेशकों का होता है जो उस कंपनी में निवेश करते है और उस कंपनी में अपना सब दाव पर लगाते है। 

इस कंपनी की शुरुआत भले ही लैरी पेज और सेर्गिन ब्रिन ने की है परन्तु वर्तमान में इस कंपनी की पेरेंट्स कंपनी Alphabet Inc है। Alphabet Inc  एक अमेरिकन इंटरनेशनल कंपनी है। इस कंपनी का मुख्यालय अमेरिका के Mountain View में है। 

कौन है गूगल का CEO?

बात करे अगर गूगल के वर्तमान CEO यानी मुख्य कार्यकारी अधिकारी की तो वर्तमान में गूगल के सीईओ भारतीय मूल के सुन्दर पिचाई है। सुन्दर पिचाई जिन्होने IIT खड़कपुर से अपनी पढाई पूरी की थी जिसके बाद वे अमेरिका चले गये थे। जहां उन्होंने गूगल ज्वाइन किया और कई प्रोजेक्ट पर काम किया जिसके बाद उन्हें गूगल कंपनी का सीईओ बना दिया गया। वर्तमान में Sundar Pichai Google के CEO है। 

किस देश की कंपनी है गूगल?

गूगल एक अमेरिकन कंपनी है। इस कंपनी की शुरुआत के समय यह अमेरिका तक ही सीमित थी परन्तु वर्तमान में यह कंपनी पूरी दुनिया में अपना सिक्का जमाए हुए है। इस कम्पनी का मुख्यालय दुनिया के हर देश में स्थित है और  भारत में Google के 5 मुख्यालय है जो की नोएडा, बंगलौर, पुणे, हैदराबाद और मुंबई में है।

जानते है Google Products के बारे में

हम जानते है कि गूगल कोई एक सर्च engine ही नही है बल्कि इसके और भी कई प्रोडक्ट है जो इस कंपनी को दुसरो से अलग बनाती है। गूगल के वैसे तो कई प्रोडक्ट है जिनके बारे में जानकर कर थक जायेंगे परन्तु इस कंपनी के प्रोडक्ट कम नहीं पड़ेंगे। उन प्रोडक्ट में से कुछ के बारे में आपको यहाँ बता रहे है। 

  • Google Adsense – हम जब भी ऑनलाइन पैसे कमाने की बात करते है तो हमारे दिमाग में सबसे पहले Blog और YouTube का नाम आता है। भारत ही नही दुनिया में ज्यादातर लोग गूगल के इस प्रोडक्ट से पैसे कमा रहे है। यह गूगल का सबसे जानामाना प्रोडक्ट है।
  • YouTube  – YouTube पर और ब्लॉग पर हम जब भी विज्ञापन से पैसे कमाने की सोचते है तो हमारे पास सबसे बड़ा आप्शन यही गूगल Adsense रहता है। हालाँकि यह एक आप्शन है परन्तु इसका इस्तेमाल ज्यादातर ब्लॉगर और Youtuber करते है। अगर आप भी किसी प्रकार की ऑनलाइन कमाई करना चाहते है तो यह आपके लिए सबसे शानदार आप्शन साबित हो सकता है।
  • Google Adwords – कमाई करने के अलावा अगर हम किसी बिज़नस और किसी भी प्रकार के ऑनलाइन प्लेटफार्म को प्रमोट करना चाहते है तो हमारे लिए यह गूगल प्रोडक्ट काफी अच्छा साबित हो सकता है। Google Adwords आपको आपकी वेबसाइट, विडियो, एप्लीकेशन और ऑनलाइन शौपिंग प्लेटफोर्म और प्रोडक्ट को प्रमोट करने का आप्शन देता है।
  • Android – दुनिया में ज्यादातर लोग स्मार्ट फ़ोन का इस्तेमाल करते है और उनमें से ज्यादातर लोग एंड्राइड मोबाइल फ़ोन का इस्तेमाल करते है। क्या आप जानते है कि इस Android का मालिकाना हक भी गूगल के पास ही है। गूगल ने हमारे फ़ोन का कण्ट्रोल भी अपने पास रखा है। गूगल फ़ोन में कुछ सॉफ्टवेर और एप्लीकेशन पहले से ही इनस्टॉल किये हुए आते है वो भी गूगल के ही है।
  • Google Chrome – मोबाइल और कंप्यूटर में हम इंटरनेट का इस्तेमाल करने के लिए मुख्य रूप से Google Chrome का इस्तेमाल करते है। यह भी गूगल का ही एक प्रोडक्ट है। Google Chrome में आपको वो सभी सुविधा मिलती है तो कभी Internet Explorer में मिलती थी, और उससे भी ज्यादा सुविधा दी जाती है। यह एक ब्राउज़र है जिसकी मदद से हम इंटरनेट पर कुछ भी जानकारी ढूंढ सकते है।
  • Google Play – हमारे एंड्राइड फ़ोन में जब भी एप्लीकेशन को इनस्टॉल करने की सोचते है तो सबसे पहले Google Play नाम की एप्लीकेशन में जाते है और वहा से एप्लीकेशन को इनस्टॉल करते है। क्या आप जानते है कि Google Play भी गूगल का ही एक प्रोडक्ट है। इस प्रोडक्ट की सहायता से हम हमारे फ़ोन में कोई भी एप्लीकेशन को इनस्टॉल कर सकते है।
  • Gmail – Google का एक ऐसा प्रोडक्ट जो हमारे दैनिक जीवन में सबसे ज्यादा काम आता है। किसी और को जानकारी भेजने या उससे जानकारी प्राप्त करने के लिए ईमेल की आवश्यकता हमे हर वक़्त होती है। यहा तक की गूगल के अन्य सभी प्रोडक्ट का इस्तेमाल करने के लिए हमे इसी Gmail की आवश्यकता होती है।
  • Google Pay – Online payment भेजने के लिए हम अक्सर किसी न किसी UPI का इस्तेमाल करते है वैसे ही यह Google Pay भी एक सर्विस है जो गूगल हमे देता है। गूगल के इस प्रोडक्ट के माध्यम आप अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ ही और किसी भी पैसे भेज सकते है और पैसों को अपने खाते में प्राप्त कर सकते है।
  • Google+
  • Calendar
  • Google Drive
  • Analytics
  • Google Translator
  • Google Duo
  • Map
  • Earth
  • Pixel
  • Assistant
  • Meet
  • Nest
  • Chromecast
  • Google Allo
  • Photo

क्या हैं Google का फूल फॉर्म ?

Google की फूल फॉर्म है – GLOBAL ORGANIZATION OF ORIENTED GROUPS LANGUAGE OF EARTH

Google कमाई कैसे करता है?

अब बात यह आती है कि गूगल इतनी बड़ी कंपनी है तो गूगल अपनी कमाई कैसे करती है, अगर यह सवाल आपके मन में भी है तो आपको इसके बारे में बता दे कि वैसे तो गूगल की कमाई के कई स्त्रोत है परन्तु उनमे से यह दो स्त्रोत मुख्य है। 

इन दो मुख्य स्त्रोतों में एक तो है विज्ञापन जो गूगल के माध्यम से किया जाता है। इसके अलावा दूसरा स्त्रोत है API को बेचने का। कई बड़े – बड़े बिज़नस गूगल की API का इस्तेमाल करते है ताकि वे अपने बिज़नस को आसानी से चला सके। गूगल अपनी API में मुख्य रूप से Google Map और Google के Business Product की API से अपनी कमाई करती है। 

इसके अलावा Google पर जो कंपनी और Advertiser अपना विज्ञापन चलाते  है उस पर भी गूगल अच्छी खासी कमाई करती है। गूगल की कमाई के और भी स्त्रोत है जैसे Business में निवेश और कई अन्य कंपनी में खुद के निवेश इत्यादि। 

अंतिम शब्द – हमारे इस लेख में आपको Google Kya Hai के बारे में बताया गया है। उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा।

FAQ

Q : भारत में गूगल की स्थापना कब हुई थी?
Ans : Google.com का डोमेन रजिस्ट्रेशन 15 सितंबर 1995 को हुआ था

Q : गूगल का मालिक कौन है?
Ans  : Larry Page और Sergey Brin

Q : गूगल का फुल फॉर्म क्या है?
Ans  :ग्लोबल ऑर्गनाइजेशन ऑफ ओरिएंटेड ग्रुप लैंग्वेज ऑफ अर्थ

Q : गूगल की खोज कब की गई थी?
Ans  : 4 सितंबर 1998, मेनलो पार्क, कैलिफोर्निया, संयुक्त राज्य अमेरिका

 

यह भी पढ़े

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here