व्लादिमीर पुतिन का जीवन परिचय | Russia President Vladimir Putin Biography in Hindi

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का जीवन परिचय (बायोग्राफी) राष्ट्रपति के रूप में (आयु, जन्मदिन, घर, परिवार, धर्म, भारत यात्रा, विचार, शिक्षा, विवाह, कुल संपत्ति, परिवार, विवाद, नेटवर्थ) व्लादिमीर पुतिन रूस (Vladimir Putin Biography in Hindi) President of Russia, Religion, Cast,  House, Age, Birthday, Family, Cars, Child, Education, wife, Marriage, Net Worth, Instagram)

वैश्विक राजनीति की जब भी बात होती है तो वह तब तक अधूरी लगती है, जब तक कुछ प्रमुख राजनेताओ का जिक्र न हो जाए। ऐसे ही एक प्रमुख राजनेता है जिनका प्रभाव सिर्फ रूस में बल्कि पूरी दुनियां में पड़ता है। हम बात कर रहे है दुनिया के सबसे शक्तिशाली व्लादिमीर पुतिन की. आज आपके लिए लेकर आये है व्लादिमीर पुतिन का जीवन परिचय (Vladimir Putin Biography in Hindi) के बारे में, जिसमे हम इसके जीवन से जुड़ी सभी बातें जानेंगे।

Vladimir Putin

व्लादिमीर पुतिन का जीवन परिचय

रूस के राष्ट्रपति का नाम (Name) व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin)
रुसी नाम (Russian name) Владимир Путин
जन्म तारीख (Date of birth) 7 अक्टूबर 1952
जन्म स्थान (Place) सेंट पीटर्सबर्ग,  रूस
उम्र (Age) 69 साल
धर्म (Religion) ईसाई, रूसी रूढ़िवादी
व्यवसाय  (Business) राजनीतिज्ञ, रूस के राष्ट्रपति
राजनीतिक दल (Political Party) यूनाइटेड पार्टी
शिक्षा (Educational Qualification) लॉ की डिग्री
स्कूल (School)
कॉलेज (College) लेनिनग्राद स्टेट यूनिवर्सिटी
नागरिकता (Nationality) रूसी
राशि (Zodiac Sign) तुला
भाषा (Languages) रुसी, पुतिन, जर्मन, अंग्रजी 
राष्ट्रपति का कार्यकाल कार्यवाहक राष्ट्रपति – 1999-2000
राष्ट्रपति के रूप में पहला कार्यकाल – 2000-2004
राष्ट्रपति के रूप में दूसरा कार्यकाल – 2004-2008
राष्ट्रपति के रूप में तीसरा कार्यकाल – 2012-2018
राष्ट्रपति के रूप में चौथा कार्यकाल – 2018 – वर्तमान
प्रधानमंत्री का कार्यकाल प्रधानमंत्री के रूप में पहला कार्यकाल – 1999-1999
प्रधानमन्त्री के रूप में दूसरा कार्यकाल -2008-2012
वैवाहिक स्थिति विवाहित
सर्वोच्च राजनीतिक कार्यालय रूस के राष्ट्रपति
सैलरी 100,000 पाउंड
नेटवर्थ $ 70 बिलियन (2012)

व्लादिमीर पुतिन का जन्म और परिवार (Vladimir Putin Birth and Family )

वर्तमान के सेंट पीटर्सबर्ग और पूर्व के लेनिनग्राद में 7 अक्टूबर 1952 को व्लादिमीर स्पिरिदोनोविच पुतिन और मारिया इवानोव्ना शेलोमोवा के घर पुतिन का जन्म हुआ। इनके पिता सोवियत नेवी में थे, जो 1930 में पनडुब्बी के एक ग्रुप में पदस्थ थे। और इनकी माता फैक्ट्री में मजदूर हुआ करती थी. द्वितीय विश्व युद्ध में इनके पिता जिस बेड़ा में थे, उसने काफी अहम भूमिका निभाई थी। नेवी से रिटायर होने के बाद एक कारखाने में फोरमैन के रूप में काम करना शुरू किया। इनकी मां भी शुरू से ही कारखाने में काम करती थी। व्लादीमीर पुतिन अपने माता-पिता की सबसे छोटी संतान थी, उनके दो बड़े भाई भी थे जिनकी मृत्यु बचपन में ही हो गई।

परिवार की जानकारी (Family Information)

पिता का नाम (Father) व्लादिमीर स्पिरिदोनोविच पुतिन
माता का नाम (Mother) मारिया शेलोमोवा
भाई बहन
पत्नी का नाम (Wife) ल्यूडमिला शक्रेबनेवा से शादी (तलाक2013)
बच्चे  2 बेटी
बच्चे के नाम मारिया पुतिना, येकातेरिना पुतिना

व्लादिमीर पुतिन का लुक (Vladimir Putin’s Look)

रंग गोरा
लम्बाई 5’ 6 फीट
वजन 70 किलो
आँखों का रंग नीला
बालो का रंग ग्रे

व्लादिमीर पुतिन की शिक्षा एवं शादी (Vladimir Putin Education and Marriage)

पुतिन की पूरी शिक्षा लेनिनग्राद में ही हुई। 1975 में पुतिन ने यही के राजकीय विश्वविद्यालय सेंट पीटर्सबर्ग स्टेट यूनिवर्सिटी से लॉ की डिग्री प्राप्त की, इसके  बाद वह काम करने लगे। 28 जुलाई 1983 को कैलिनिनग्राद की ल्यूडमिला शक्रेबनेवा के साथ इन्होंने शादी की।  शादी के बाद 1990 तक यह दोनों जर्मनी में रहे। यहीं पर पुतिन के बारे में ऐसी बातें कहीं जाने लगी कि उनकी दोस्ती एक जर्मन जासूस से हो गई है, हालांकि पुतिन ने हमेशा इस बात को निराधार बताया है, लेकिन समय-समय पर यह अफवाह उठती रही।

कुछ वर्ष बाद ही यह भी कहा जाने लगा कि पुतिन और उनकी पत्नी के बीच के संबंध मधुर नहीं रहे आखिरकार 2 अप्रैल 2014 को इन दोनों के तलाक की पुष्टि हो गई। इन दोनों की दो संताने भी है, जिनके नाम मारिया पुतिन और येकातेरिना पुतिन है। इनकी दोनो बेटियां का लालन पालन पूर्व जर्मनी में ही हुआ था।

पुतिन रूसी भाषा के अलावा जर्मन, अंग्रेजी, और स्वीडिश भाषा भी जानते है। जर्मन भाषा तो उनके घर मे भी बोली जाती थी क्योंकि वो अपने परिवार के साथ जर्मनी में रहते थे।

व्लादिमीर पुतिन केजीबी से करियर की शुरुआत (Vladimir Putin KGB career)

व्लादिमीर पुतिन ने अपने करियर की शुरुआत रूस के गुप्तचर एजेंसी केजीबी (Komitet gosudarstvennoy bezopasnosti) से की थी। वहाँ उन्हें एक जासूस के तौर पर 1975 में नियुक्ति मिली और 1991 तक वो लेफ्टिनेंट कर्नल के पद तक पहुँच चुके थे। उन्हें बचपन से ही जासूसी वाली फिल्में देखना बड़ा पसंद था और बस जासूस बनने का ठान लिया। हालांकि बर्लिन की दीवार गिरने बाद वो वापस रूस चले आये और यही से उनके राजनीतिक कैरियर की शुरुआत हुई।

व्लादिमीर पुतिन का राजनीतिक सफ़र (Vladimir Putin Political Career)

व्लादीमीर पुतिन के राजनीतिक करियर की शुरुआत उस वक्त हुई जब 1991 में उन्हें सेंट पीटर बर्ग  में महापौर कार्यालय के विदेश संबंध समिति का प्रमुख बनाया गया। इनका काम विदेशों से संबंध मजबूत करना और व्यापार को बढ़ाना था। यहां उन्होंने कुछ वर्षों तक काम किया, इसके बाद 1994 से 1996 तक कई अन्य पदों पर सेंट पीटर बर्ग में ही काम करते रहे। 1996 में वह मास्को आए असल में इन्हें यहाँ बुलाया गया था ताकि उस वक्त के राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन के कार्यालय में काम कर सके। यहां वह 1997 तक पदस्थ रहे। रूस और यूक्रेन का विवाद क्या है

व्लादिमीर पुतिन रूस के प्रधानमंत्री के रूप में कार्यकाल (Vladimir Putin as a Prime minister of Russia)

9 अगस्त 1999 को पुतिन को पहली बार कार्यवाहक प्रधानमंत्री के तौर पर नियुक्त किया गया। इनकी नियुक्ति राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन के द्वारा की गई, इसलिए शुरुआत में पुतिन को इन्हीं का साथी समझा गया। पुतिन के मंत्रिमंडल का चुनाव भी राष्ट्रपति ने ही किया था, लेकिन इसके कुछ महीने बाद समीकरण बदले और तत्कालीन राष्ट्रपति ने अपने पद से असमय इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद पुतिन को कार्यवाहक राष्ट्रपति बनाया गया।

प्रधानमंत्री के रूप में दूसरा कार्यकाल – 2008-2012

रूस का कानून था कि कोई व्यक्ति लगातार तीन बार राष्ट्रपति नहीं बन सकता। दिमित्री मेदवेदेव वह नेता थे जिसका समर्थन पुतिन ने राष्ट्रपति पद के लिए किया था। इन्होंने भी पुतिन को यह वचन दिया था कि यदि वह राष्ट्रपति बनेंगे तो पुतिन को ही प्रधानमंत्री बनाएंगे। चुनाव में  दिमित्री मेदवेदेव 70.28% वोट से जीत मिली और पुतिन प्रधानमंत्री बन गए।

व्लादिमीर पुतिन रूस के राष्ट्रपति के रूप में कार्यकाल (Vladimir Putin as a President of Russia)

राष्ट्रपति के रूप में पहला कार्यकाल – 2000-2004

तत्कालीन राष्ट्रपति के समय इस्तीफा देने के 3 महीने के भीतर ही राष्ट्रपति का चुनाव हुआ, जिसके बाद पुतिन यह चुनाव जीतने में सफल हुए और उन्हें राष्ट्रपति बनाया गया। राष्ट्रपति के रूप में उनका पहला कार्यकाल 2000 से 2004 तक रहा। इस दौरान उनके प्रधानमंत्री मिखाइल कास्यानोव रहे।

अपने कार्यकाल में उन्होंने सबसे पहला काम व्यापारी और अरबपतियों के खिलाफ एक लड़ाई शुरू की, जो रूस की राजनीति प्रभावित करते थे। अपने पहले कार्यकाल में पुतिन आर्थिक मोर्चे पर भी काफी सफल रहे, क्योंकि विकास दर 6.5% थी, इसके साथ ही विदेशी कर्ज में भी भारी कमी आई थी। यूरोपीय यूनियन, अमेरिका और नाटो देशों के साथ संबंध भी बहुत अच्छे बने थे और रूस को विश्व व्यापार संगठन का हिस्सा बनवाने में भी पुतिन सफल हुए।

राष्ट्रपति के रूप में दूसरा कार्यकाल – 2004-2008

2004 में पुतिन 71% मतों के साथ विजय हुए और उन्हें दोबारा राष्ट्रपति बनने का मौका मिला। यह कार्यकाल उनके लिए उतना मधुर नहीं रहा, क्योंकि राष्ट्रपति बनते ही 2004 में एक बहुत बड़ा आतंकी हमला हुआ जो कि बेसलान के एक स्कूल में हुआ था। यहां 1100 अधिक बच्चों को बंधक बनाया गया, जिसके बाद कई लोगों की मृत्यु भी हो गई। इस घटना के बाद पुतिन ने कई प्रशासनिक बदलाव किए। पश्चिमी देशों ने इन पर आरोप भी लगाए कि उन्होंने मीडिया की स्वतंत्रता को अब कम कर दिया है, खासकर एक मीडिया कर्मी की हत्या के बाद जिन्होंने सेना में हुए एक बड़े भ्रष्टाचार को उजागर किया था।

पुतिन चारों तरफ से आलोचनाओं से घिरे थे, इसी बीच 12 सितंबर 2007 को मौजूदा प्रधानमंत्री मिखाईल फ्राडकोव के कहने पर सरकार भंग कर दी और एक नए प्रधानमंत्री को नियुक्त किया।

2008 में ओसेशिया युद्ध छिड़ गया, जिसमें रूस ने नाटो के एक देश जॉर्जिया को हरा दिया। जिसके चलते यूरोपियन यूनियन और अमेरिका के साथ रूस के तनाव भरे रिश्ते हो गए। लेकिन जैसे तैसे करके रूस ने अपनी अर्थव्यवस्था सुधार ली और उसके कार्यों को तारीफ खुद वर्ल्ड बैंक ने की थी। तभी 4 सितंबर 2011 का वह दिन आया जब रूस के मौजूदा राष्ट्रपति ने यह ऐलान किया कि वह राष्ट्रपति का चुनाव नहीं लड़ेंगे, बल्कि खुद की जगह वह पुतिन का समर्थन करेंगे और इनके समर्थन का सकारात्मक असर भी दिखाई दिया, जब 4 मार्च 2012 को पुतिन एक बार फिर राष्ट्रपति बने।

राष्ट्रपति के रूप में तीसरा कार्यकाल – 2012-2018

राष्ट्रपति बनते ही अलग-अलग क्षेत्रों में विकास के लिए पुतिन ने 14  योजनाओं की शुरुआत की, जिनका व्यापक असर भी दिखाई दिया, लेकिन कुछ विवाद भी हुए। 2012-13 में ट्रांसजेंडर के खिलाफ एक कानून बनाया गया, जिसका पूरे विश्व में विरोध हुआ। हालांकि पुतिन ने यह कहकर बचने की कोशिश की, कि यह कानून बच्चों को यौन शोषण से बचाने के लिए बनाया गया है। हालांकि इसका असर उनके राजनीतिक सफर पर नही पड़ा

राष्ट्रपति के रूप में चौथा कार्यकाल (2018-वर्तमान)

साल 2018 में एक बार फिर 76% से अधिक मतों के साथ विजय होकर राष्ट्रपति बने।

व्लादिमीर पुतिन  की कुल संपत्ति (Vladimir Putin Net Worth)

व्लादिमीर पुतिन  काफी लग्जरियस लाइफ जीते हैं, 2012 में जारी आकड़ो के अनुसार पुतिन के पास करीब $ 70 बिलियन की संपत्ति है। सैलरी की तौर पर पुतिन 100,000 पाउंड लेते है. व्लादिमीर पुतिन के पास लग्जरियस घर, सेफ हाउस, यॉट और सेकड़ो लक्ज़री कार है. उनके पास 700 कार, 58 प्लेन और हेलीकाप्टर है. इसके अलावा उनके पास 50 हज़ार पाउंड का सोने से बना टॉयलेट भी है. इसके अलावा उनके पास एक बुलेटप्रूफ लिमोजीन कार भी है, जिसकी कीमत 192 मिलियन डॉलर बताई जाती है. इसके अलावा सेंट पीटर्सबर्ग में 833 वर्ग फुट का एक बड़ा महल ‘Putin’s Palace’ भी है, जिसकी कीमत 74 अरब रुपये बताई जाती है. सेंट पीटर्सबर्ग बैंक के 260 शेयर्स भी इनके पास है और इनके पास करोडो की घडियो का कलेक्शन भी है. कहा जाता है कि व्लादिमीर पुतिन के पास अरबो की संपत्ति है लेकिन इनमें कितनी सच्चाई है इस पर रहस्य बना हुआ है.

प्रथम विश्व युद्ध के कारण
द्वितीय विश्व युद्ध कब हुआ

व्लादिमीर पुतिन  के कुछ महत्वपूर्ण निर्णय

  • रूस का क्रीमिया अधिग्रहण विवाद का मुद्दा रहा है। 26 फ़रवरी 2014 को सबसे पहले रूस के कुछ हथियार बंद समर्थक ने क्रीमिया की संसद पर कब्जा कर लिया। इसके बाद रूस के संसद ने भी इस कब्जे को जायज ठहराया और यह तर्क दिया कि क्रीमिया हमेशा से ही रूस का हिस्सा रहा है। 6 मार्च को क्रीमिया की संसद ने भी इस निर्णय में अपनी सहमति दे दी, जिसके बाद 18 मार्च 2014 को रूसी राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद क्रीमिया रूसी फेडरेशन का हिस्सा बन गया।
  • ऐसा ही विवाद यूक्रेन को लेकर है। नाटो और अमेरिकी देश यूक्रेन को नाटो की सदस्यता देना चाहते थे, और यूक्रेन भी इसके लिए तैयार था, लेकिन रूस ऐसा नही चाहता था। उसके अपना पक्ष यूक्रेन को समझाया, पर वो नही समझा। जिसके बाद रूस ने फरवरी 2022 को उस पर हमला कर दिया।

व्लादिमीर पुतिन को मिले सम्मान (Putin Awards Medals)

  • लीजन ऑफ ऑनर, फ्रांस, सितम्बर 2006
  • पर्सन ऑफ द ईयर, टाइम पत्रिका, 2007
  • किंग अब्दुल अजीज पुरस्कार, सऊदी अरब, 12 फ़रवरी 2007
  • आर्डर ऑफ़ जायद, संयुक्त अरब अमीरात, 10 सितंबर 2007
  • कन्फ्यूशियस शांति पुरस्कार, चीन इंटरनेशनल पीस रिसर्च सेंटर, 2011
  • डॉक्टरेट की मानद उपाधि, बेलग्रेड विश्वविद्यालय, 2011

निष्कर्ष – व्लादिमीर व्लादिमीरोविच पुतिन (Vladimir Putin Biography in Hindi) आज रूस के सबसे प्रभावशाली व्यक्ति है। USSR के विघटन के बाद रूस को किसी ऐसे ही शासक की जरूरत थी, जो मजबूती से खड़ा रहे और देश को आगे बढ़ाएं, और पुतिन इस काम मे काफी हद तक सफल भी हुए है।

FAQ

Q : रूस के राष्ट्रपति कौन हैं?
Ans : व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin)

Q : व्लादिमीर पुतिन कौन हैं?
Ans : रूस के राष्ट्रपति हैं.

Q : रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का कब जन्म था?
Ans : उनका जन्म 07 अक्टूबर 1952  में हुआ था

Q : पुतिन की उम्र क्या है?
Ans : 69 वर्ष  (07 अक्टूबर 1952)

Q : पहली बार व्लादिमीर पुतिन राष्ट्रपति कब बने?
Ans : वर्ष 2000 में

यह भी पढ़े

 

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here