पीएचडी क्या है पूरी जानकारी | PhD Full Form in Hindi

पीएचडी क्या है | पीएचडी के लिए योग्यता | PhD Full Form in Hindi |PhD Duration| PhD Admission| PhD Benefits| PhD Course Duration| PhD Eligibility| PhD in India | PhD Meaning | PhD Colleges | Doctor of Philosophy

PhD Full Form in Hindi – आज के समय कुछ लोग ऐसे होते हैं जो सिर्फ ग्रेजुएशन या फिर पोस्ट ग्रेजुएशन तक ही पढाई करते है उसके बाद प्राइवेट नौकरी है या फिर सरकारी नौकरी में लग जाते है. लेकिन कई लोग ऐसे भी हैं जो पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद पीएचडी करते है और डिग्री प्राप्त करते हैं. क्योंकि कुछ लोगो की रुचि पढने और पढ़ाने में होती है. जिस वजह से उन्हें सरकारी और प्राइवेट कॉलेज में लेक्चरर या प्रोफेसर की नौकरी आसानी से मिल जाती है. वह लोग मेडिकली डॉक्टर तो नहीं होते हैं लेकिन उनके नाम के पहले डॉक्टर जरूर लग जाता है. और यह वही लोग होते हैं जिन्होंने पीएचडी की डिग्री हासिल की है. आपकी जानकारी के लिए बता दूँ पीएचडी डिग्री होल्डर को काफी अच्छी खासी सैलरी मिलती है. लेकिन इस कोर्स को करना इतना आसान भी नहीं है.

आज के इस आर्टिकल में पीएचडी क्या है (PhD Full Form in Hindi) और इसकी तैयारी कैसे करे. इन सभी के बारे में हम आपको विस्तार से बताने वाले है. अगर आप भविष्य में PhD कर रहे हो या फिर करना चाहते हो तो इसे पूरा ध्यान से समझना.    

PhD Full Form in Hindi

पीएचडी क्या है (What is PhD in Hindi)

PhD पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करने के बाद की जाने वाली एक उच्च डिग्री कोर्स है. जिसकी न्यूनतम अवधि 3 वर्ष और अधिकतम अवधि 6 वर्ष है. पढ़ाई पूरी करने के बाद आपको उस विषय में PhD की डिग्री मिल जाती है, जिस विषय से आपने PhD पूरी की है. PhD की उपाधि मिलने का मतलब होता है कि आपको उस विषय के किसी भी टॉपिक पर पूरा ज्ञान होगा और आपके नाम के पहले डॉक्टर भी लग जाता है.

मुख्य रूप से PhD कोर्स ज्यादातर छात्र सरकारी या निजी कॉलेज में प्रोफेसर या लेक्चरर के पद पाने के लिए करते हैं. वैसे अधिकतर देशों में इसे सर्वोच्च डिग्री माना गया है. PhD कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको UGC NET, CSIR-UGC NET, UGC JRF SET, IIT JAM,ICMR, SET/SLET जैसे एंट्रेंस एग्जाम देने होते  हैं.

किसी विशेष टॉपिक में रुचि रखने वाले छात्रों के लिए PhD करने के कई फायदे होते हैं. एक पीएचडी छात्र को अपने विषय पर मजबूत पकड़ बनाने का अवसर मिलता है. PhD के छात्र अपनी रिसर्च पर काम करने के लिए सम्पूर्ण समय ले सकते हैं. PhD  करने की कई ब्रांच होती हैं, जिसमे आप अपनी पसंदीदा ब्रांच में या अपनी रुचि के अनुसार PhD कर सकते हैं.

Join Telegram

पीएचडी का फुल फॉर्म क्या है (PhD Full Form in Hindi)

पीएचडी का फुल फॉर्म होता है “Doctor of Philosophy“. और हिंदी में “डॉक्टरेट ऑफ फिलॉसफी” होता है. इसे आम भाषा और शोर्ट फॉर्म में PhD कहते है. पीएचडी शब्द डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी के लिए है. उदाहरण के लिए यदि कोई फाइनेंस में डॉक्टरेट की पढ़ाई कर रहा है, तो कोर्स को फाइनेंस में पीएचडी कहा जाएगा. PhD तीन साल से छह साल का कोर्स है. PhD में एडमिशन लेने से पहले आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आपकी रूचि कौनसे विषय के किस टॉपिक पर है. उसी के आधार पर एडमिशन होगा.  

पीएचडी के लिए आवश्यक योग्यता (Qualification For PhD In Hindi)

  • पीएचडी कोर्स में प्रवेश के लिए आवश्यक न्यूनतम योग्यता संबंधित क्षेत्र में किसी भी मान्यता प्राप्त भारतीय या विदेशी विश्वविद्यालय से सामान्य रूप से दो साल की मास्टर डिग्री या एम.फिल डिग्री होनी जरूरी है.
  • मास्टर या एम.फिल डिग्री में कम से कम 55% अंक या समकक्ष ग्रेड प्राप्त होना चाहिए. यदि उम्मीदवार आरक्षित श्रेणी (SC/ST/OBC) से संबंधित है, तो उसे श्रेणी के आधार पर न्यूनतम अंकों में 5% या 10% की छूट दी जाएगी.
  • पीएचडी में एडमिशन लेने के लिए यूनिवर्सिटी या कॉलेज में एंट्रेंस एग्जाम पास करना अनिवार्य होगा है.
  • कुछ यूनिवर्सिटी या कॉलेजों में रिसर्च के क्षेत्र में कार्य अनुभव रखने वाले पीएचडी होल्डर को प्राथमिकता दी जाती है और उन्हें अधिक वरीयता भी दी जाती है.

पीएचडी की फीस क्या है (What is The Cost of PhD in India)

पीएचडी की फीस हर यूनिवर्सिटी और कॉलेज में अलग अलग होती है. प्राइवेट यूनिवर्सिटी की तुलना में सरकारी यूनिवर्सिटी की फीस बहुत कम होती है. हम आपको नीचे कुछ यूनिवर्सिटी और कॉलेज की फीस के बारें में कुछ जनकारी देने वाले है.

यूनिवर्सिटी/कॉलेज फीस
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, बॉम्बे 58,200
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, अहमदाबाद 15.340
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस, बैंगलोर 16000
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, दिल्ली 42,900
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मद्रास 19,670
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, खड़गपुर 50,000
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कानपुर 64,050
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रुड़की 25,500
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, गुवाहाटी 18,150
दिल्ली यूनिवर्सिटी 10,000
हैदराबाद यूनिवर्सिटी 8,980
जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी, दिल्ली 240

पीएचडी कैसे करें (How to do PhD Course in Hindi)

पीएचडी करने के लिए पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद किसी भी प्राइवेट कॉलेज में एंट्रेंस एग्जाम को पास कर एडमिशन मिल सकता है. अगर आपको देश में किसी बड़े इंस्टिट्यूट या सरकारी कॉलेज में एडमिशन लेना है तो नीचे दी गई एंट्रेंस एग्जाम (PhD Course Entrance Tests) को पास कर भारत के विभिन्न कॉलेजों में पीएचडी में प्रवेश ले सकते हैं-

  • UGC Net Exam
  • CSIR-UGC Net Exam
  • UGC JRF
  • JRF-GATE
  • SET/ SLET
  • IISc PhD Entrance Exam
  • AIIMS PhD Entrance Exam
  • TISS-RAT
  • JNU Entrance Exam
  • DU PhD Entrance Exam
  • DUET
  • IIT JAM
  • BHU – Research Entrance Exam
  • ICMR NIPER PhD Entrance Exam
  • IGNOU PhD Entrance Exam
  • AIIMS PhD Entrance Exam

पीएचडी के सब्जेक्ट क्या है (PhD in Different Streams)

अक्सर लोगो के मन में यह सवाल जरूर आता है कि PhD करने के लिए कौन सा विषय लेना चाहिए. दरअसल यह पूरी तरह से छात्रों पर निर्भर करता है. उनकी रूचि किस विषय में अधिक है. तो हम आपको उन विषय की लिस्ट के बारें में बताने वाले है जिससे आप PhD कर सकते हो.

  • पीएचडी इन ह्यूमैनिटीज
  • पीएचडी इन इकोनॉमिक्स
  • पीएचडी इन सोशियोलॉजी
  • पीएचडी इन साइंस
  • पीएचडी इन इंजीनियरिंग
  • पीएचडी इन आर्ट्स
  • पीएचडी इन इंग्लिश
  • पीएचडी इन बिजनेस मैनेजमेंट
  • पीएचडी इन लॉ
  • पीएचडी इन पब्लिक पॉलिसी
  • पीएचडी इन इंटरनेशनल रिलेशन एंड पॉलिटिक्स
  • पीएचडी इन साइकोलॉजी
  • पीएचडी इन कॉमर्स मैनेजमेंट
  • पीएचडी इन एकाउंटिंग एंड फाइनेंसियल मैनेजमेंट
  • पीएचडी इन टीचिंग एजुकेशन

पीएचडी के लिए टॉप कॉलेज (Top Colleges for PhD in India)

भारत में पीएचडी करने के लिए कई सरकारी और प्राइवेट कॉलेज है. लेकिन अधिकतर लोग सरकारी इंस्टिट्यूट में एडमिशन लेना पसंद करते है. क्योंकि सरकारी इंस्टिट्यूट की पीएचडी डिग्री की वेल्यु अधिक होती है और फीस काफी कम होती है. प्राइवेट कॉलेज की फीस काफी ज्यादा होती है इसलिए इन कॉलेज में एडमिशन आसानी से मिल जाता है. नीचे हम आपको टॉप सरकारी कॉलेज और प्राइवेट कॉलेज की लिस्ट बताने जा रहे है.    

पीएचडी के लिए टॉप सरकारी कॉलेज (Top Government Colleges for PhD in India)

  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, बॉम्बे
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, अहमदाबाद
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस, बैंगलोर
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, दिल्ली
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मद्रास
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, खड़गपुर
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कानपुर
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रुड़की
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, गुवाहाटी
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी
  • हैदराबाद यूनिवर्सिटी
  • जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • इंडियन स्टैटिस्टिकल इंस्टिट्यूट, कोलकाता
  • टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च, मुंबई
  • जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी, दिल्ली

इस लिस्ट में जो सरकारी कॉलेज बताएं गए है उनके अलावा भी सेंट्रल यूनिवर्सिटी, स्टेट यूनिवर्सिटी में आप एडमिशन ले सकते हो.  

पीएचडी के लिए टॉप प्राइवेट कॉलेज (Top Private Colleges for PhD in India)

  • चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़
  • प्रेसीडेंसी यूनिवर्सिटी, बैंगलोर
  • मणिपाल यूनिवर्सिटी, जयपुर
  • निम्स यूनिवर्सिटी, जयपुर
  • बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस
  • सीएमआर यूनिवर्सिटी, बैंगलोर
  • शारदा यूनिवर्सिटी, ग्रेटर नोएडा
  • जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी, जयपुर
  • एमिटी यूनिवर्सिटी
  • पारुल यूनिवर्सिटी, वडोदरा

पीएचडी के फायदे (Advantages of PhD)

PhD करने के बाद आपको कई तरह के फायदे मिल सकते है. PhD करने वाले उम्मीदवार को PhD नही करने वाले उम्मीदवार की तुलना में ज्यादा पसंद किया जाता है फिर चाहे वो किसी भी क्षेत्र में हो. इसीलिए आपको पीएचडी करना चाहिए।  इसके  कुछ फायदे है जो हम आपको नीचे विस्तार से बताने वाले है.

  • PhD के बाद रोजगार के अवसरों की संख्या बढ़ जाती है. और आपके लिए नौकरी पाने का एक उच्च अवसर हो जाता है.
  • PhD की डिग्री के बाद आपकी सैलरी में इजाफा देखने को मिलेगा. और हर साल इंक्रीमेंट भी जल्द होगा. पीएचडी के साथ आप कॉलेजों और यूनिवर्सिटी में पढ़ाना भी शुरू कर सकते हो.  
  • PhD की डिग्री हर क्षेत्र में प्रतिष्ठित और मान्यता प्राप्त डिग्रियों में से एक मानी जाती है. क्यों कि इन डिग्रियों को प्राप्त करना थोड़ा कठिन होता है.
  • PhD करने से आप उस विषय में एक्सपर्ट हो जाते है. आप अपने क्षेत्र या पेशे से संबंधित समस्याओं को सुलझाने में अपने ज्ञान और समझ का उपयोग कर सकते हैं.

पीएचडी करने के बाद सैलरी कितनी मिलती है (What is the salary of a PhD)

PhD के बाद यदि आप राज्य या केंद्र के किसी सरकारी कॉलेज में सहायक प्रोफेसर के रूप में काम करते हो तो आपका वेतन 70,000 से शुरू होकर 1,30,000 हर महीने मिलेगा. लेकिन यह वेतन आपके शोध कार्य ज्ञान, अनुभव और कौशल के आधार पर दिया जायेगा. यदि आप एक प्राइवेट कॉलेज में सहायक प्रोफेसर के रूप में काम करते हो तो आपका वेतन 40,000 से 80,000 रूपये के बीच होगा।

निष्कर्ष :- तो आज के इस लेख में आपने जाना पीएचडी क्या है (PhD Full Form in Hindi) और इसकी तैयारी कैसे करे. उम्मीद करते है आपको यह जानकरी जरुर पसंद आई होगी.

FAQ

Q : पीएचडी कोर्स कितने साल का होता है?
Ans : लगभग 3 से 5 साल का समय लगता है.

Q : पीएचडी करने से क्या होता है?
Ans : नाम से पहले डॉक्टर लग जाता है और कई भी जॉब करते है तो सैलरी अच्छी मिलती है.

Q : पीएचडी के बाद कौन सी नौकरी मिलती है?
Ans : कॉलेज प्रोफेसर, बैंक और अन्य सरकारी संस्थान में 

Q : पीएचडी का पूरा नाम क्या है?
Ans : डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी

Q : पीएचडी करने के बाद कितनी सैलरी मिलती है?
Ans : 40,000 से 3 लाख महिना

Q : भारत में कितने लोग पीएचडी हैं?
Ans : एक लाख 70 हज़ार के आस पास

Q : पीएचडी कब कर सकते है?
Ans : मास्टर डिग्री के बाद

यह भी पढ़े

Founder of Wonder Facts Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here