इंटरनेट क्या है, उपयोग, हानि, खोज, लाभ, नुकसान, (Internet Kya Hai in Hindi)

इंटरनेट क्या है, परिभाषा, उपयोग, इतिहास, महत्व, हानि, खोज, लाभ, नुकसान, किसने की (Internet Kya Hai in Hindi) (Kise Kahate Hai, Full Form, History, Advantages, Disadvantages, Speed Test)

नमस्कार दोस्तों, आज के समय में इंटरनेट का इस्तेमाल काफी बढ़ गया हैं। हम वर्तमान में इंटरनेट के माध्यम से एक मिनट में सन्देश एक जगह से दूसरी जगह और दुसरे देश में भेज सकते हैं। क्या आप जानते हैं की वास्तव में इंटरनेट क्या हैं ?What is Internet

इंटरनेट क्या हैं ? (What is Internet)

हमारा मिनटों का काम सेकेंडो में करने के लिए हम अक्सर इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। इंटरनेट नेटवर्क का एक ऐसा जाल होता हैं जो सूचनाओं को आदान प्रदान करने में मदद करता हैं। इंटरनेट की वास्तविक परिभाषा समझे तो यह एक ऐसा सर्वर होता हैं जो राऊटर की मदद से और नेटवर्क जाल की मदद से दुनिया के सभी कंप्यूटर को आपस में जोड़ता हैं।

इंटरनेट की परिभाषा

अगर आपने मायाजाल का नाम सुना हैं तो आप इस इंटरनेट की परिभाषा के बारे में समझ अकते है। दुनिया के सभी कंप्यूटर को केवल एक केबल की माध्यम से जोड़ने को ही नेटवर्क कहते हैं। इंटरनेट को चलाने के लिए coaxial केबल की आवश्यकता हमे सबसे पहले पड़ती हैं। यही coaxial केबल के जाल को इंटरनेट कहा जाता हैं। इंटरनेट TCP / IP प्रोटोकॉल के माध्यम से सूचनाओं का आदान प्रदान करता हैं। इस नेटवर्क से डाटा भेजने के लिए नेटवर्क के सर्वर भी इस जाल का अहम हिस्सा होते हैं। कंप्यूटर नेटवर्क को ही इंटरनेट के नाम से जाना जाता हैं।

इंटरनेट का इतिहास (History of Internet)

इंटरनेट का इतिहास देख तो इसकी सबसे पहले शुरुआत एक ऐसे देश में हुई थी जो वर्तमान में इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी का एक अहम हब बन चूका हैं। इंटरनेट का सबसे पहले इस्तेमाल अमेरिका के रक्षा मंत्रालय में किया गया था। अमेरिका के रक्षा विभाग ने सबसे पहले साल 1969 में एक नेटवर्किंग प्रोजेक्ट लांच किया था जिसका नाम ARPAnet था, जिसका पूरा नाम Advanced Research project Agency था। उस समय इस नेटवर्क का इस्तेमाल ख़ुफ़िया जानकारी भेजने के लिए किया जाता था।

इंटरनेट की वास्तविक शुरुआत साल 1970 में Vinton Gray Cerf और Bob Kahn ने की थी। इन दोनों को ही इंटरनेट का वास्तविक जनक कहा जाता हैं। इसी साल यानी 1972 में रेटॉमलिसंन ने दुनिया में सबसे पहले ईमेल भेजा था। इसके बाद तो मानों इंटरनेट की दुनिया में एक होड़ सी बन गई और समय के साथ यह काफी विस्तृत हुआ और इससे ज्यादा फैला की आज हम इसे हर घर में इस्तेमाल करते हैं।

भारत में इंटरनेट की शुरुआत कब हुई ?

भारत में इंटरनेट की शुरुआत काफी देर से हुई हैं। जब दुनिया ने इंटरनेट का मज़ा लेते हुए लगभग 20 साल हो गये थे उसके बाद कही भारत में इंटरनेट की शुरुआत हुई थी। भारत में इंटरनेट की शुरुआत तक़रीबन साल 1995 में हुई थी। 15 अगस्त 1995 में पहली बार भारत में इंटरनेट की सेवा की शुरुआत हुई थी। शुरुआत में इस सेवा का इस्तेमाल देश के कुछ बड़े संस्थानों और विभागों में ही इस्तेमाल किया गया था। इस समय देश में केवल 20-30 कंप्यूटर ही इस सेवा से जुड़ पाए थे। शुरुआत में जब भारत में इंटरनेट की शुरुआत हुई थी तब इंटरनेट की स्पीड भारत में काफी कम थी परन्तु उसके बाद जैसे-जैसे इंटरनेट का विस्तार हुआ वैसे-वैसे भारत में इंटरनेट की स्पीड बढती गई। इसके बाद 90 के दशक में तो इंटरनेट ने भारत में धूम मचा दी और यह भारत के लगभग हर कौने में फ़ैल गया था। वर्तमान में हम इस इंटरनेट को काफी इस्तेमाल करते हैं।

इंटरनेट का मालिक कौन हैं ?

इंटरनेट का मालिक कौन हैं इसके बारे में वास्तविकता में कुछ नही बता सकते हैं। क्योंकि इसे किसी एक इंसान ने नही बनाया था बल्कि एक टीम ने मिल के बनाया था। इंटरनेट का वैसे तो वास्तविक में कोई मालिक नही हैं। बावजूद इसके हम इस बारे में जानते हैं की इंटरनेट का पहली बार इस्तेमाल अमेरिका में हुआ था। सीधी भाषा में समझे तो इंटरनेट पर किसी सरकार, संस्थान या किसी व्यक्ति विशेष का कोई अधिकार नही हैं। दुनिया ने इंटरनेट का मुह पहली बार तब देखा गया था जब अमेरिका के रक्षा विभाग को इसकी जरूरत लगी। इसके बाद इसे एक व्यक्ति ने नही बल्कि पुरे विभाग द्वारा  बनाया गया था इसलिए इस पर किसी एक का मालिकाना हक नही हैं।

इंटरनेट कैसे काम करता हैं ? 

सामान्य तौर पर देखा जाए तो यह एक ऐसा जाल हैं जो विश्व के सभी नेटवर्क और सेटेलाइट से जुड़े हुए हैं। हम जैसे ही कोई वेबसाइट सर्च करते हैं जैसे Google{dot}com तो उसके बाद बिना पलक जपके हमे डाटा हमारी कंप्यूटर और मोबाइल स्क्रीन पर कैसे दिखा देती हैं। क्या आप इसके बारे में सोचा हैं। खैर, इंटरनेट की दुनिया में कई पैकेज ट्रेवल करते हैं जो अलग-अलग वेबसाइट के डाटा को लाने ले जाने का काम करते हैं। ऐसे में आपकी किस वेबसाइट के पैकेज को लाएगी इसके बारे में कैसे पता चलेगा ? इसके लिए हर वेबसाइट को एक अलग-अलग IP address दिए जाते हैं। वेबसाइट जिसके बारे में आप सर्च करना चाहते हो वो पहले से ही किसी एक सर्वर पर Installed रहती हैं और उस सर्वर पर एक Unique IP Address वेबसाइट के नाम से Allot रहता हैं। अब अगर आप कोई भी वेबसाइट को सर्च करेंगे तो उसके बाद उस वेबसाइट का जो भी IP Address हैं वो एक्टिव हो जाएगा और अपने सर्वर पर जाएगा जहा पर वेबसाइट हैं, और वहा से अपना डाटा लेकर आएगा और आपको दिखा देगा। अब यह काम इतनी स्पीड से होता हैं कि आप सोच भी नही सकते हैं। आपके पलक झपकने से पहले ही वो आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होता हैं। कंप्यूटर कुछ इस प्रकार से काम करता हैं। वर्तमान में इंटरनेट के काम करने के तरीके में भी बदलाव हो रहा हैं। क्योंकि इंटरनेट आज तारों के जंजाल से बाहर आ कर बिना तारों के यानि वायरलेस हो रहा हैं और आसमान में दूर सॅटॅलाइट के माध्यम से काम करने के तरीके की और बढ़ रहा हैं।

इंटरनेट का उपयोग 

इंटरनेट का उपयोग करना वैसे तो हमारे दैनिक जीवन का एक हिस्सा बन चूका हैं। परन्तु फिर भी कुछ ऐसे निच्छित काम हैं जो हम केवल इंटरनेट के माध्यम से ही कर सकते हैं जैसे –

  • ईमेल के माध्यम से सूचनाओं का आदान प्रदान करना और फोटो, इमेज और अन्य दस्तावेजों को भेजना।
  • इंटरनेट की मदद से किसी भी काम को करना जैसे कोई जानकारी ढूंढना या अपनी कोई जानकारी लोगो तक पहुचाना काफी आसानी से किया जा सकता हैं।
  • घर बैठे कोई सामग्री खरीदना भी आज इंटरनेट के माध्यम से आसान हो गया हैं।
  • इसके अलावा टिकेट बुकिंग, खाना मंगवाना इत्यादि भी आसान हो गया हैं।
  • ऑनलाइन गेम खेलना और ऑनलाइन विडियो देखना भी काफी आसान हो गया है।
  • कोरोना काम में इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन पढाई करना भी बेहद आसान हो गया हैं।

इंटरनेट के लाभ

इंटरनेट को इस्तेमाल करने के कुछ फायदे यह हो सकते हैं। इंटरनेट के यह फायदे –

  • इंटरनेट पर कई तरह की सूचनाओं का भंडार मिलता हैं। यह सूचनाओं का भण्डार किसी भी तरह का होता हैं जैसे काम की जानकारी या बिना काम की जानकारी इत्यादि।
  • इंटरनेट 24 घंटे उपलब्ध होता हैं। आप किसी भी वक़्त इसे और कभी भी इसे एक्सेस कर सकते हैं।
  • इंटरनेट का इस्तेमाल करना काफी आसान हैं और सरल हैं। इंटरनेट के इस सस्ते दौर में हम डिजिटल दुनिया के बारे में जान सकते हैं।
  • इंटरनेट का उपयोग भी आसान हैं, इसे हम फ़ोन और कंप्यूटर के माध्यम से एक्सेस कर सकते हैं।
  • इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन शिक्षा ग्रहण की जा सकती हैं और ऑनलाइन बिज़नस करना भी सीख सकते हैं।
  • इंटरनेट के माध्यम से खुद का एक ब्रांड बना सकते हैं और इंटरनेट की मदद से खुद ऑनलाइन पैसा भी कमा सकते हैं जो आज के समय में एक आम बात बन गई हैं।

इंटरनेट से हानि

इंटरनेट को इस्तेमाल करना बेहद आसान हैं वही इस इंटरनेट के कुछ फायदे तो इसके कुछ नुकसान भी हैं। इंटरनेट के यह कुछ नुकसान हैं जो इंटरनेट को इस्तेमाल करने के लिए हमे प्रेरित नही करते हैं –

  • इंटरनेट का इस्तेमाल करने के लिए हमे मोबाइल और कंप्यूटर का इस्तेमाल करना होता हैं। कंप्यूटर और मोबाइल के इस्तेमाल करने से हमे मानसिक और शारीरक नुकसान भी हो सकते हैं जैसे तनाव बढ़ना, आँखे कमजोर होना इत्यादि।
  • कंप्यूटर को इस्तेमाल करने से हो सकता हैं कि आप जिस वेबसाइट और एप्लीकेशन का इस्तेमाल करते हैं उससे आपके फ़ोन और कंप्यूटर में वायरस भी आ सकते हैं जिसकी वजह से आपका मोबाइल और कंप्यूटर खतरे में पढ़ सकता हैं।
  • कंप्यूटर और मोबाइल में इंटरनेट का इस्तेमाल करने से हमारे मोबाइल में कई बार अनजानी में कुछ ऐसे डाटा आ जाते हैं जिसकी वजह से लोगो के लिए हमारा मोबाइल और कंप्यूटर को हैक करना काफी आसान हो जाता हैं।
  • आपके Phishing का नाम तो सुना होगा, यह इंटरनेट की दुनिया का चर्चित शब्द हैं, इसकी मदद से लोग आपके डाटा को आसानी से Phishing के माध्यम से हैक कर सकते हैं और आपका डाटा चुरा सकते हैं।
  • अफवाह का बाज़ार, इंटरनेट पर मिलने वाली जानकारी कितनी सच्ची हो सकती हैं इसकी बात की कोई जानकारी और गारंटी नही दे सकते हैं। इसलिए कहते हैं की इंटरनेट की दुनिया में सच्ची खबर कम और झूठी खबर ज्यादा फैलती हैं।
  • इंटरनेट एक वर्चुअल दुनिया का माया जाल है और हम वास्तविक दुनिया में रहते है। अगर किसी को इंटनेट की लत यानि गलत आदत पड़ जाते तो वो इंसान अपनी वास्तविक दुनिया को छोड़कर वर्चुअल दुनिया में चला जाता है।
  • इंटरनेट आने के बाद सभी काम ऑनलाइन हो गए है, पढाई, शॉपिंग और भी तरह की वेबसाइट है जिसमे आप वर्क करते हो, लेकिन क्या ये सब सिक्योर है ?, बिलकुल भी नहीं, आज के टाइम में सबसे अधिक चोरी ऑनलाइन ही हो रही है।

FAQ

Q : इंटरनेट का पूरा नाम क्या है?
Ans : इंटरनेशनल नेटवर्क

Q : इंटरनेट के क्या लाभ है?
Ans : इंटरनेट के इस्तमाल से ऑनलाइन काम आसानी से कर सकते है.

Q : भारत में इंटरनेट कब आया था?
Ans : 15 अगस्त 1995 में

Q : इंटरनेट के आविष्कारक कौन है?
Ans : Vinton cerf & Bob Kahn

 

यह भी पढ़े 

सर्वर क्या है?
कंप्यूटर क्या है ?
NFT क्या है?
क्रिप्टो करेंसी क्या है?
मेटावर्स क्या है?

मेरा नाम अशोक जांगिड है. मैं जयपुर राजस्थान में रहता हूँ. मुझे कई सालो का ब्लॉग्गिंग का अनुभव है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here